कॉकलियर इंप्लांट क्या है? और कैसे काम करता हैं ?

कॉक्लियर इंप्लांट एक छोटा, परिष्कृत (जटिल) इलेक्ट्रोनिक मेडिकल उपकरण है जो कान से कम सुनाई देने से पीड़ित लोगों की मदद करता है। यह लोगों को गंभीर संवेदी बहरापन या सेंसरीन्यूरल बहरापन की स्थिति में आवाज़ को सुनने में मदद करता है। इस उपकरण के उपयोग की सलाह आमतौर पर तब दी जाती है जब पारंपरिक कान की मशीन लाभ नहीं देती है। चूंकि लोग इस तकनीक से परिचित नहीं हैं, आइए हम बताते हैं कि कॉकलियर इंप्लांट क्या है और कैसे काम करता है।

कॉकलियर इंप्लांट क्या है और कैसे काम करता हैं blog feature image

कॉक्लियर इंप्लांट क्या है?

कॉकलियर इंप्लांट एक छोटा, जटिल इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो उन लोगों को ध्वनि की भावना प्रदान करने में मदद करता है जो गहन या गंभीर बहरापन से पीड़ित हैं या बहुत ऊँचा सुनते हैं। कॉकलियर इंप्लांट में एक बाहरी भाग होता है जो कान के पीछे बैठता है और दूसरा भाग सर्जरी के द्वारा भीतरी या आंतरिक कान में बिठाया जाता है।

कॉक्लियर इंप्लांट के क्या फायदे है?

कॉक्लियर इंप्लांट उन लोगों के लिए उपयुक्त है, जिनके भीतरी कान में दोष हैं। यह भीतरी कान में कोक्लीअ को प्रत्यक्ष विद्युत उत्तेजना प्रदान करता है। यह संकेतों को बाहरी और मध्य कान से गुजरे बिना आंतरिक कान के कोक्लीअ तक पहुंचाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो कॉकलियर इंप्लांट एक कोक्लीअ का कार्य करता है।

कॉकलियर इंप्लांट की आवश्यकता क्यों होती है और कान की मशीन की क्यों नहीं?

यह एक बुनियादी सवाल है जो ज्यादातर लोगों द्वारा पूछा जाता है जब उन्हें कॉक्लियर इंप्लांट लगवाने की सलाह दी जाती है।

कान की मशीन गंभीर या गहन बहरेपन से पीड़ित कुछ लोगों की मदद नहीं करते हैं। उन्हें, कान की मशीन से शब्द स्पष्ट सुनाई नहीं देते हैं। कान की मशीन द्वारा प्रवर्धित ध्वनि से मदद नहीं मिल पाती है क्योंकि कोक्लीअ सामान्य रूप से काम नहीं कर रहा होता है।

ऐसे लोगों के लिए कॉक्लियर इंप्लांट सुनने के लिए एक बेहतर साधन है। दोनों के बीच का अंतर समझने के लिए कॉकलियर इंप्लांट या कान की मशीन? बहतर क्या?  पर हमारा लेख पढ़ें।

हमें कोक्लीअ की कार्य प्रणाली को समझना चाहिए। इससे हमें यह समझने में मदद मिलेगी कि एक कॉक्लियर इंप्लांट कैसे काम करता है।

मानव कोक्लीअ कैसे काम करता है?

मानव कान कोक्लीअ आरेख blog image
मानव कान कोक्लीअ आरेख

आइए हम आंतरिक कान के कार्य को संक्षेप में समझें। कोक्लीअ आंतरिक कान में घोंघे के आकार का अंग है। कोक्लीअ के आंतरिक भाग में हजारों छोटी बाल कोशिकाएं (Hair Cells)  हैं। ये बाल कोशिकाएं ध्वनि तरंगों को विद्युत आवेगों में परिवर्तित करती हैं। कोक्लीअ को नुकसान होने के मामले में, बाल कोशिकाएं ध्वनि स्पंदनों को विद्युत आवेगों में परिवर्तित नहीं कर पाते हैं।

श्रवण तंत्रिका

कान की नस या श्रवण तंत्रिका (Auditory nerve)  विद्युत आवेगों को कोक्लीअ से मस्तिष्क तक लेकर जाती है। यह परिवर्तित संकेत मस्तिष्क तक पहुँचते हैं जिससे हमें अंततः आवाज़ सुनाई देती है।

कोक्लीअ आंतरिक कान का अत्यंत नाज़ुक हिस्सा है। कोक्लीअ में आंशिक या पूर्ण नुकसान के कारण, मस्तिष्क तक पहुँचने वाले ध्वनि संकेत कम हो जाते हैं। इस कारणवश कोक्लीआ को हानि पहुँचने पर व्यक्ति गंभीर रूप से बहरेपन का शिकार होता है। हमारे कान किस तरह से काम करते है? इस बारे में हमारा लेख पढ़ें।

कॉक्लियर इंप्लांट कैसे काम करता है?

यह जानने से पहले कि कॉकलियर इंप्लांट कैसे काम करता है, हमें इम्प्लांट की भौतिक संरचना से परिचित होना चाहिए।

कॉकलियर इंप्लांट्स को मोटे तौर पर दो मुख्य भागों में विभाजित किया जा सकता है।

  1. बाहरी भाग जो सामान्य रूप से दिखाई देता है और
  2. इंप्लांट का आंतरिक भाग जो सर्जरी के द्वारा आंतरिक कान में बिठाया जाता है।

कॉक्लियर इंप्लांट के भाग

कॉक्लियर इंप्लांट के भाग blog image
कॉक्लियर इंप्लांट के भाग

बाहरी भाग ध्वनि को पकड़ता है और उसे संसाधित करता है। आंतरिक भाग संसाधित ध्वनि संकेतों को भीतरी कान तक पहुँचाता है। ये दोनों भाग एक साथ काम करते हैं जो उपयोगकर्ता को ध्वनि को समझने या सुनने में सक्षम बनाते है।

कॉक्लियर इंप्लांट के बाहरी भाग क्या है?

  1. माइक्रो फोन के साथ स्पीच प्रोसेसर इकाई
  2. ट्रांसमीटर

स्पीच प्रोसेसर एक बाहरी हिस्सा है। यह एक आवरण में कान के पीछे लगता है जो बीटीई कान की मशीन के समान दिखता है। इसमें माइक्रोफोन और ध्वनि प्रसंस्करण सर्किट शामिल हैं। तार और ट्रांसमीटर भी बाहरी हिस्से में शामिल होते हैं।

कॉक्लियर इंप्लांट के बाहरी हिस्सों के कार्य

  • कॉक्लियर इंप्लांट माइक्रोफोन

माइक्रोफोन का प्राथमिक कार्य पारंपरिक कान की मशीन (श्रवण यंत्र) में लगे माइक्रोफोन की तरह ध्वनि को पकड़ना है। ये ध्वनि संकेत तब स्पीच प्रोसेसर तक पहुँचा दिए जाते हैं।

  • कॉक्लियर इंप्लांट स्पीच प्रोसेसर

स्पीच प्रोसेसर (भाषण प्रक्रमक) माइक्रोफोन से प्राप्त ध्वनि संकेतों को संसाधित करता है। स्पीच प्रोसेसर एक छोटा डिजिटल कंप्यूटर है। यह ध्वनि संकेतों का विश्लेषण और प्रसंस्करण करता है। ध्वनि संकेतों का प्रसंस्करण उपयोगकर्ता की सुनने की क्षमता के अनुसार है। प्रसंस्करण के बाद, संकेत ट्रांसमीटर तक पहुंचते हैं।

  • स्पीच प्रोसेसर हाउसिंग

स्पीच प्रोसेसर (भाषण प्रक्रमक) आमतौर पर माइक्रोफोन के आवास (हाउसिंग) में स्थित होता है। हाउसिंग बीटीई कान की मशीन के आकार से थोड़ा बड़ा है। इस क्षेत्र में नियमित शोध व अनुसंधान कार्य के कारण, हाउसिंग छोटे से छोटे माप में भी उपलब्ध है। कुछ नमूनों (मॉडलों) में, प्रोसेसर एक छोटे से डिब्बे के आकार में होता है और शर्ट की छाती की जेब में रखा जाता है।

  • कॉक्लियर इंप्लांट ट्रांसमीटर

तार के माध्यम से संकेतों को स्पीच प्रोसेसर से ट्रांसमीटर तक ले जाया जाता हैं। ट्रांसमीटर में एक कॉइल (धातु की तारों का गुच्छा) होती है जो संकेतों का विकरण करती है। यह चुंबक की मदद से जगह पर रहता है। चर्म के नीचे इंप्लांट रिसीवर में भी एक चुंबक होता है। ट्रांसमीटर और रिसीवर के चुंबक एक दूसरे को पकड़ते हैं। ट्रांसमीटर प्रोसेसर से संकेत प्राप्त करता है और उन्हें रिसीवर को भेजता है।

कॉक्लियर इंप्लांट के आंतरिक भाग क्या है?

कॉक्लियर इंप्लांट के अन्य हिस्से आंतरिक हैं और चर्म के नीचे रखे जाते हैं। इस प्रक्रिया के लिए कान के डॉक्टर द्वारा कॉक्लियर इम्प्लांटेशन सर्जरी (कर्णावर्ती प्रत्यारोपण शल्य चिकित्सा) की आवश्यकता होती है।

इंप्लांट के आंतरिक मुख्य भाग हैं:

  1. रिसीवर
  2. इलेक्ट्रोड या इलेक्ट्रोड श्रंखला

कॉक्लियर इंप्लांट के आंतरिक भागों के कार्य

दो आंतरिक भागों को चर्म के नीचे शल्य चिकित्सा द्वारा इंप्लांट किया जाता है। ये रिसीवर और इलेक्ट्रोड (electrodes) हैं।

कॉक्लियर इंप्लांट का रिसीवर

इंप्लांट का रिसीवर कान के पीछे के चर्म के नीचे होता है। इस रिसीवर में एक कॉइल होती है जो ट्रांसमीटर द्वारा दिए गए संकेतों को पकड़ती है।

इलेक्ट्रोड या इलेक्ट्रोड श्रंखला (Electrode Array)

रिसीवर विद्युत संकेतों के रूप में इलेक्ट्रोड की श्रंखला पर संकेतों को भेजता है। इन इलेक्ट्रोड को कोक्लीअ में कॉक्लियर इम्प्लांटेशन सर्जरी (Cochlear Implant surgery) द्वारा डाला गया है। इन्हें इलेक्ट्रोड श्रंखला भी कहा जाता है क्योंकि इलेक्ट्रोड एक से अधिक हैं। विद्युत संकेत या आवेग कोक्लीअ को उत्तेजित करते हैं। इस उत्तेजना के परिणाम स्वरूप ध्वनि की अनुभूति होती है।

सावधानी इलाज से बेहतर है

सुनने की समस्या का जल्द से जल्द पता लगने से हम बहरापन (श्रवण हानि) को बढ़ने से रोक सकते हैं। भविष्य में अधिक नुकसान न हो पाए उसके लिए तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

कृपया ध्यान दें कि कॉक्लियर इम्प्लांट उपकरण कान से कम सुनाई देने से पीड़ित व्यक्ति की श्रवण शक्ति को पूर्ण रूप से नहीं लौटा सकता है। कॉक्लियर इम्प्लांटेशन सर्जरी (कर्णावर्ती प्रत्यारोपण शल्य चिकित्सा) से कुछ हद तक ध्वनि की सनसनी को सुनने की क्षमता को पुनर्स्थापित करना संभव है।

हम आशा करते हैं कि आपको कॉकलियर इंप्लांट क्या है इस विषय से जुड़े सवालों का उत्तर मिल गया है और आप अपने संदर्भ में इस उपकरण के उपयुक्त होने या न होने का निर्णय करने में सक्षम हो सकें।