टीम इंडिया का समर डेफ्लम्पिक्स 2017 में जलवा

542

तुर्की ने 23 वें ग्रीष्मकालीन डेफ्लम्पिक्स 2017 की मेजबानी की। ओलंपिक मशाल स्विट्ज़रलैंड के लॉज़ेन से सैमसन में बाटी पार्क तक यात्रा की। इसमें 97 देशों ने भाग लिया जिसमें कुल 3,145 एथलीट भेजे गए।

भारत ने 46 श्रवणबाधित एथलीटों का एक दल भेजा। उन्होंने समर डेफ्लम्पिक्स 2017 में 97 देशों के 3,145 एथलीटों के साथ प्रतिस्पर्धा की। भारतीय एथलीटों ने 5 पदक जीतकर भारत को गर्व करवाया। यह किसी भी ओलंपिक वर्गीकरण में अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन था। इस बार का डेफ्लम्पिक्स पैरालाम्पिक्स विशेष ओलंपिक, सर्दियों या गर्मियों के डेफ्लम्पिक्स में से सबसे अच्छा रहा।

23rd Deaflympics Turkey

डेफ्लम्पिक्स 2017 में भारतीय एथलीट

भारत को गर्व करवाने वाले एथलीटों में 16 वर्षीय गोल्फर दीक्षा डागर हैं। व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा में दीक्षा ने एक रजत जीता।

पृथ्वी शेखर और जफरिन शेख ने मिश्रित टेनिस में कांस्य पदक जीता। उन्होंने चीनी जोड़ी को हराया।

सुमित दहिया ने फ्रीस्टाइल 97 किलो में प्रभावशाली 10-0 के स्कोर से कांस्य पदक जीता। वर्ग।

अजय कुमार ने फ्रीस्टाइल 65 किलोग्राम में 10-0 के स्कोर से कांस्य पदक जीता।

वीरेंद्र सिंह यादव जिन्होंने 74 किलोग्राम फ्रीस्टाइल कुश्ती श्रेणी में स्वर्ण पदक जीतकर सोने पे सुहागा कर दिया। ।

 वीरेंद्र सिंह यादव

वीरेंद्र सिंह यादव 23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में
वीरेंद्र सिंह यादव 23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में

हरियाणा के झज्जर से 31 वर्षीय वीरेंद्र सिंह अर्जुन पुरस्कार विजेता है। उन्होंने 6 अंतर्राष्ट्रीय पदक भी जीते हैं। उनकी यहाँ तक की यात्रा आसान नहीं रही है। वह आर्थिक रूप से बहुत अच्छे नहीं थे। आहार और प्रशिक्षण लागत पर खर्चों के चलते वह लगातार कर्ज में थे। उन्होंने उन विरोधियों से लड़कर पैसा कमाया जो उनके आकार के दोगुने थे। उनका इरादा इतना मजबूत था, और उसमें सफल होने का दृढ़ संकल्प था, उन्होंने केवल 5,000 रु प्रति लड़ाई लड़ी। भविष्य में, वह श्रवणबाधित पहलवानों को प्रशिक्षित करने के लिए अपनी अकादमी शुरू करने की योजना बना रहे है।

आइए वीरेंद्र सिंह को चैम्पियनशिप 2020 और डेफ्लम्पिक्स 2021 के लिए शुभकामनाएं दें।

दीक्षा डागर

दीक्षा डागर गोल्फ़ चैंपियन
दीक्षा डागर गोल्फ़ चैंपियन

दिल्ली की 16 वर्षीय दीक्षा डागर, गोल्फ़  क्लब गेंद को मारने वाले क्लब की आवाज़ नहीं सुन सकती हैं। लेकिन उन्होंने गोल्फ आयोजन में भारत को रजत पदक दिया है। उनके पिता, कर्नल नरिंदर डागर ने उन्हें 6 साल की उम्र से गोल्फ कोर्स में ले जाना शुरू कर दिया था। वह अपने भाई योगेश के साथ रहीं, वो भी श्रवणबाधित था। उनके पिता उनके लिए कोच और उनकी प्रेरणा बन गए।

 जब भी उनके पिता अपने कामो में व्यस्त रहते, दीक्षा अपने भाई के साथ खेला करती। श्रवणबाधित होने के कारण, वे अन्य बच्चों के साथ नहीं खेल सकती थी।

 मेडेन गोल्फ पदक

ग्रीष्मकालीन डेफ्लम्पिक्स 2017 में गोल्फ को पहली बार शामिल किया गया है। दीक्षा डागर को पहला रजत पदक जीतने का सम्मान मिला है। दीक्षा अन्य टूर्नामेंटों में भी भाग लेती है। वह जूनियर एमेच्योर खिताब की विजेता है। उन्होंने 4 अन्य राष्ट्रीय खिताब जीते हैं और दो बार उपविजेता रहीं हैं। वह अवसर प्रदान करने और प्रोत्साहित करने के लिए अपने पिता और भारतीय सेना का धन्यवाद करती है। भारतीय सेना ने उन्हें सेना क्लब गोल्फ कोर्स का उपयोग करने की अनुमति दी।

 पृथ्वी शेखर

 23 वर्षीय पृथ्वी सेखर चेन्नई से है। उन्होंने मिश्रित डबल टेनिस टूर्नामेंट में भारत के लिए कांस्य पदक जीता। उन्होंने हैदराबाद के जफरीन शेख के साथ भागीदारी की। पृथ्वी जन्म से बाधित था। तब से वह एक हियरिंग ऐड का उपयोग कर रहा है। वह पिछले 15 सालों से टेनिस खेल रहा है। उन्होंने 2013 के डेफ्लम्पिक्स और 2015 में यूनाइटेड किंगडम में आयोजित विश्व बधिर टेनिस चैम्पियनशिप भी में भाग लिया, उन्होंने इन टूर्नामेंटों में से कोई भी नहीं जीता। लेकिन उन्होंने समर डेफ्लम्पिक्स 2017 के लिए तैयारी करना शुरू कर दिया।

23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में भारतीय टेनिस विजेता
23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में भारतीय टेनिस विजेता

जाफरीन शेख

 

जाफरीन शेख मूल रूप से कुरनूल से हैं। उसने 7 साल की उम्र से टेनिस खेलना शुरू किया। उसने पृथ्वी शेखर के साथ कांस्य पदक जीतने के लिए भागीदारी की। उनके पिता जाकीर अहमद एक वकील है, हमेशा उसके पक्षधर थे। जब उसके प्रशिक्षण पर खर्च जरूरत से ज्यादा हो गया, तो उसके पिता ने अपना घर बेच दिया। वह चाहते कि उसका प्रशिक्षण जारी रहे। सानिया मिर्जा ने भी जफरीन की मदद की थी। सानिया ने उसके खर्चों के लिए पैसा दिया। उन्होंने हैदराबाद में अपनी प्रशिक्षण अकादमी में भी उन्हें नामांकित किया।

 जाफरीन 2 बार राष्ट्रीय विजेता है और अपनी श्रेणी में विश्व रैंकिंग में 24 वें स्थान पर है।

समर डेफ्लम्पिक्स 2017 भारतीय पदक विजेता

23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में भारतीय पहलवान
23 वें समर डीफ्लेम्पिक्स 2017 में भारतीय पहलवान

उपर्युक्त 5 एथलीट एकमात्र ध्यान देने योग्य प्रतिभागी नहीं थे।

  • भारतीय स्प्रिंट टीम 4 X 100 मीटर रिले के फाइनल में पहुंची। टीम के सदस्य जिजो कुरिआकोस, श्रीकृष्ण महाता, अजीश सुभाष और यदुकृष्णन रामचंद्रन थे
  • यदुकृष्णन रामचंद्रन 100 मीटर स्प्रिंट के सेमिफाइनल में पहुंचे।
  • सरवन कार्तिक और गुर्सिमरण सिंह सिद्धू ने पुरुषों की हाई जंप इवेंट में भाग लिया। वे क्रमश: 8 वें और 9 वें स्थान पर रहे।
  • पारुल गुप्ता और मधु जयसवाल की महिला युगल जोड़ी कांस्य पदक मैच में हार गई।
  • मोनिका वर्मा 5 वें स्थान पर रही। और प्रियशा शरदराव देशमुख 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में 6 वें स्थान पर रहे।

आइए इन असली नायकों को सलाम करें। उन्होंने अपनी कमियों के बावजूद देश को गर्व करवाया। उन्होंने भारत के लिए प्रसिद्धि और सम्मान हासिल किया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.