कान की मशीन की आदत डालने के लिए 15 युक्तियाँ

आप अपनी पहली कान की मशीन की फिटिंग के लिए ऑडियोलॉजिस्ट से मिल रहे हैं और बहुत खुश और उत्साहित हैं। आप यह सोच कर मुस्करा रहे हैं की कल होने वाली पार्टी में आप शब्दों और बातचीत को अब ठीक से सुन सकेंगे और परिवार और दोस्तों के साथ बिना कोई हिचकिचाहट के बात चीत कर सकेंगे।

हम आपको निराश नहीं करना चाहते बल्की आपको सावधान करना चाहते हैं कि यदि यह पहली बार है तो कान की मशीन की आदत डालने में कुछ दिन लगेंगे।

आपकी पहली कान की मशीन से आपकी क्या उम्मीदें हैं?

आपको यह जानना महत्वपूर्ण है कि कान की मशीन एक ऐसा उपकरण है जो ध्वनि के स्तर को बड़ा के आपको सुनने में मदद करता हैं, यह बहरेपन का इलाज नहीं है।

प्रारंभ मे हर ध्वनि कुछ अजीब, जोर का और असहनीय लगेगी, ध्वनि की गुणवत्ता अलग होगी। लेकिन जैसे-जैसे आपको कान की मशीन की आदत पड़ जाती हैं, आप इस अंतर को महसूस नहीं करेंगे और कान की मशीन के उपयोग के लाभों से खुश होंगे।

कान की मशीन की आदत डालने में कितना समय लगता है?

एक नए कान की मशीन उपयोगकर्ता को कान की मशीन की आदत डालने में लगभग एक या दो महीने का समय लगता है। इसमें थोड़ा धैर्य और ज्ञान की आवश्यकता है, हर गुजरते दिन के साथ आपका आराम स्तर बढ़ता जाएगा। कान की मशीन की आदत कैसे डालें? यह जानने के लिए इन युक्तियों का पालन करें।

1. अपने कान की मशीन की विशेषताओं से परिचित हों

आपका ऑडियोलॉजिस्ट आपको कान की मशीन के कार्यों और विशेषताओं के बारे में जानकारी देगा। यह सीखना महत्वपूर्ण है कि आपकी कान मशीन को कैसे समायोजित किया जाए क्योंकि एक मॉडल से दूसरे मॉडल में विशेषताएं भिन्न होती हैं।

मल्टी-प्रोग्राम सेटिंग्स एक बहुत महत्वपूर्ण विशेषता है जिसे आप बार बार इस्तेमाल करेंगे। डिजिटल कान की मशीन में विभिन्न वातावरणों या स्थितियों के अनुरूप कई सेटिंग्स (Programs) होते हैं।

सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले सेटिंग हैं:

शांत वातावरण में भाषण सेटिंग

आपको इस सेटिंग का चयन तब करना है जब आप घर पर हों या कार्यालय में हों, या ऐसे किसी भी वातावरण में जहाँ अधिक पृष्ठभूमि शोर न हो। कान की मशीन या रिमोट कंट्रोल या फोन ऐप पर बटन दबाकर सेटिंग को बदला जा सकता है।

पृष्ठभूमि शोर वातावरण में भाषण सेटिंग

आपको इस कार्यक्रम का चयन तब करना चाहिए जब आप बाहर ट्रैफिक और अन्य शोर से घिरे हों। कान की मशीन पृष्ठभूमि के शोर को कम कर देगी ताकि आप भाषण को बेहतर सुन सकें।

कान की मशीन निर्माता बहु-सेटिंग (Multi-program) विकल्प प्रदान करते हैं, आप अपने ऑडियोलॉजिस्ट के साथ उपलब्ध सेटिंग पर चर्चा करें। अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख 6 विशेषताएं आपके कान की मशीन में जरुर होनी चाहिए पढ़ें।

ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा कान की मशीन फिटिंग blog image
ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा कान की मशीन फिटिंग

2. कान की मशीन को कान में ठीक से कैसे लगाएं?

कान की मशीन लगाने का तरीका जानना बहुत जरूरी है। कान की मशीन को सही तरीके से बैठाना सीखें, यदि मशीन ठीक से फिट नहीं है तो आपको सीटी की आवाज सुनाई देगी जिसे ऑडियो फीडबैक कहते हैं, इससे भाषण समझना मुश्किल हो जाता है।

कान में मशीन डालने की विधि कान मशीन के प्रकार पर निर्भर करती है। ITC या CIC डालने की तुलना में BTE ईयरमोल्ड या RIC डोम डालने के लिए एक अलग तकनीक या तरीके की आवश्यकता होती है।

अपने ऑडियोलॉजिस्ट से कान की मशीन को ठीक से डालने की तरकीब सीखें और क्लिनिक से निकलने से पहले कुछ बार अभ्यास करें।

3. घर पर अपनी कान की मशीन का उपयोग करना शुरू करें

ऑडियोलॉजिस्ट आपके बहरेपन के अनुसार कान की मशीन को प्रोग्राम या सेटिंग करेगा। आप अच्छा महसूस कर रहे हैं क्योंकि आप ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा बोले गए हर शब्द को सुन और समझ सकते हैं।

लेकिन जैसे ही आप क्लिनिक से बाहर शोरगुल वाली सड़क पर कदम रखते हैं तो आपको एक झटका लगता है। सब आवाजें ऊंची और असहनीय लगती है और आपको अपने कान से मशीन निकलने का मन करता।

बेझिझक उन्हें उतार कर डिब्बे में डाल दें, आपके कान की मशीन में कुछ खराबी नहीं है। कारन यह है की आपकी सुनने की क्षमता कम हो गई है और आपने कुछ समय से ऊंची आवाज़ें नहीं सुनी हैं, आप अभी तक शोरगुल के अनुभव के लिए तैयार नहीं हैं।

कान की मशीन का उपयोग शांत वातावरण में करना शुरू करें क्योंकि कान की मशीन आसपास की ध्वनि को बढ़ाते हैं। आपको और आपके मस्तिष्क को कान की मशीन और नई ध्वनियों के अभ्यस्त होने के लिए समय चाहिए।

घर पहुंचें, आराम करें और फिर से अपनी कान की मशीन लगाएं। आपको सड़क पर सुनाई देने वाली आवाज़ और अब सुनाई देने वाली आवाज़ में बड़ा अंतर लगेगा। अब सुनने का अनुभव बहुत आरामदायक होगा।

4. एक शांत कमरे में कान की मशीन पहनना शुरू करें

यदि आपका घर मुख्य सड़क पर है और बाहरी शोर के संपर्क में है, तो घर के सबसे शांत कमरे में चले जाएँ। प्रारंभ में, आपको उन हल्की ध्वनियों का पता लगाने और उनसे परिचित होने की आवश्यकता है जिन्हें आप पहले नहीं सुन सकते थे। घड़ी की टिक-टिक, एयर कंडीशनर की फुफकार, दरवाज़े का बंद होना और दरवाज़े की घंटी बजना अजीब लगेगा, और कभी-कभी बहुत ऊंची।

यदि आप कार्यालय जाते हैं, तो अपने कार्यालय पहुंचने के बाद अपने कान की मशीन का उपयोग करें, कार्यालय के रास्ते में यातायात का शोर आपको असहज कर देगा और आप कान की मशीन को वापस करने के बारे में सोचेंगे।

5. नयी कान की मशीन पहनना अजीब क्यूँ लगता है?

प्रारंभ में अजीब लगेगा, लेकिन चिंता न करें, यह कान की मशीन की आदत पड़ने तक है। जैसे-जैसे आप उनके अभ्यस्त हो जाएंगे, आपको एहसास नहीं होगा कि आपने कान मशीन पहन रखा है। उनका उपयोग करना बंद न करें, अस्थायी असुविधा की तुलना में लाभ कई अधिक हैं।

6. क्या मुझे अपनी कान की मशीन हर समय पहननी चाहिए?

चूंकि आप लंबे समय के बाद बहुत तेज आवाजें सुन रहे हैं, इसलिए यह संभव है कि लगातार मशीन पहनने से आपको थकान और कभी-कभी संवेदी अधिभार (Sensory overload) भी हो सकता हैं।

सुनने की शक्ति पांच इंद्रियों में से एक है, अगर किसी भी इंद्रियों में उत्तेजना की अचानक वृद्धि होती है, जैसे तेज आवाज सुनने से, मस्तिष्क और कान अति-उत्तेजित हो जाते हैं, जिससे श्रवण संवेदी अधिभार होता है।

श्रवण संवेदी अधिभार (Auditory sensory overload) थकान, चिड़चिड़ापन, चिंता और तनाव का कारण बनता है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि अपनी सुविधा के अनुसार दिन में धीरे-धीरे घंटों की संख्या में वृद्धि करें।

7. आपको दिन में कितने घंटे कान की मशीन पहनने चाहिए?

यदि ध्वनि असुविधाजनक हो तो आपको कान की मशीन से थोड़ा अंतराल लेना चाहिए। अपने दिन की शुरुआत कान की मशीन से करें, फिर उन्हें कुछ समय के लिए निकाल दें। आप ऐसा दिन में कुछ बार कर सकते हैं और जब आपको कान की मशीन की आदत हो जाए तो धीरे-धीरे उपयोग बढ़ाएं।

8. मेरी आवाज अजीब क्यों लगती है?

खुद की आवाज न पहचानना सबसे बड़ा झटका है। आपकी कान की मशीन उन आवृत्तियों को बढ़ा देता है जिन्हें आप पहले नहीं सुन सकते थे, इससे सुर की गुणवत्ता बदल जाती है जिससे आपकी आवाज अलग लगती है।

जब आप बोलते हैं तो आपके कंठ में स्वरयंत्र का कंपन आपकी खोपड़ी के माध्यम से कान तक पहुंचता है। यह बाहर से सुनाई देने वाली आवाज से जुड़ता है जिससे आपकी आवाज समृद्ध और सुखद लगती है।

कान की मशीन उपयोगकर्ता कान की मशीन के माध्यम से प्रवर्धित ध्वनि अधिक सुनते हैं और हड्डी संचालित ध्वनि कम सुनते हैं, इसलिए आपकी अपनी आवाज अजीब लगती है।

अपनी आवाज से परिचित होने के लिए खुद से बात करें या जोर से पढ़ें। कुछ दिनों तक अभ्यास करने के बाद आपकी आवाज अजीब नहीं लगेगी।

9. मेरी आवाज गूंजती क्यूँ है?

आप जब कान की मशीन का उपयोग करते हैं तो आपके कान ईयरमोल्ड, डोम या कान में लगी मशीन से बंद हो जाते हैं। बंद कान एक रोड़ा प्रभाव (Occlusion effect) पैदा करता है। कुछ ध्वनि तरंगें कान नलिका की दीवार या कान के परदे से टकरा कर परावर्तित हो जाती हैं। ये ध्वनि तरंगें बाहर नहीं निकल सकतीं क्योंकि आपके कान बंद हैं जिससे आवाज गूंजती है।

10. क्या मैं बहुत जोर से या सामान्य रूप से बोल रहा हूँ?

कम सुनाई देने के कारण आपको अपनी आवाज़ बहुत धीमी लगती थी, नए कान की मशीन के साथ आपकी आवाज़ को बढ़ाया गया है। इसलिए आपको लगता है की आप ऊँचा बोल रहे हैं। ध्वनि के आदर्श स्तर के बारे में अपने परिवार और दोस्तों से प्रतिक्रिया लें और तदनुसार अपना भाषण समायोजित करें।

11. अपने आसपास की ध्वनियों को पहचानें और उनसे परिचित हों

आपका मस्तिष्क एयर कंडीशनर की गुनगुनाहट, दरवाजे की घंटी बजना या स्नानघर में पानी बहना जैसी आवाजों को भूल गया है। हर आवाज बहुत तेज और अवास्तविक लगेगी, अपनी आंखें बंद करें और अपने आसपास की आवाजों को पहचानें। मानव मस्तिष्क बहुत तेजी से अनुकूलन करता है, आप कुछ ही दिनों में अपने आसपास की दैनिक पृष्ठभूमि की ध्वनियों के साथ सहज हो जाएंगे।

जब आप अपने घर के अंदर की आवाज़ों के साथ सहज हो जाते हैं तो बाहर निकलें और ध्वनियों को पहचानने का प्रयास करें। अनुभव निराशाजनक हो सकता है क्योंकि घर के शोर की तुलना में आसपास का शोर अधिक होता है।

बाहर निकलते ही कान की मशीन प्रोग्राम को “पृष्ठभूमि शोर वातावरण में भाषण” सेटिंग में बदलें। आपकी कान की मशीन पृष्ठभूमि के शोर के स्तर को कम कर देगी ताकि आप भाषण को बेहतर ढंग से सुन सकें।

12. एक-से-एक बातचीत से शुरू करें

शुरुआत में लोगों के समूह में बात करने से बचें। यदि एक समय में एक से अधिक व्यक्ति बात कर रहे हों तो शब्दों को समझना कठिन होता है और कई बार यह पहचानना मुश्किल हो जाता है कि कौन बोल रहा है।

एक व्यक्ति के साथ बातचीत करने का अभ्यास करें, बातचीत पर ध्यान केंद्रित करें और यदि आप कुछ शब्द नहीं समझ पाते हैं तो उनसे दोहराने का अनुरोध करें।

यदि आपको एक-से-एक वार्तालाप करने का अवसर नहीं मिलता है तो एक रिकॉर्डिंग का उपयोग करें जिसका आपके पास एक मुद्रित संस्करण भी है। अगर शब्द समझ नहीं आते है तो शब्दों को पहचानने के लिए मुद्रित संस्करण देखें। आप जितना अधिक अभ्यास करेंगे, उतना जल्दी आपको कान की मशीन की आदत पड़ेगी और आप सहज महसूस करेंगे।

एक-से-एक वार्तालाप के साथ सहज होने के बाद समूह वार्तालाप प्रारंभ करें। शुरुआत में आपको कठिनाई होगी लेकिन यह धैर्य और सकारात्मक दृष्टिकोण की बात है। आपको खुश होना चाहिए कि आपको कान की मशीन की आदत हो रही है और इससे फर्क पड़ रहा है।

13. अपने कान की मशीन के साथ टेलीविजन देखें

टेलीविजन की ध्वनि या संवाद सुनना सबसे कठिन होता है। जिस उपयोगकर्ता को अपने कान की मशीन की आदत पड़ चुकी है, उन्हें भी डायलॉग् समझने में थोड़ी परेशानी होती है। टीवी सेट का आवाज न बढ़ाएँ, इससे मामला और बिगड़ जाएगा क्योंकि ध्वनि विकृत हो जाएगी और कमरे में दूसरों को भी असुविधा हो सकती है।

टेलीविजन के सामान्य सेटिंग में उपशीर्षक या कैप्शन के साथ फिल्में और कार्यक्रम देखें, इससे आपको बेहतर समझने में मदद मिलेगी।

कान की मशीन निर्माता स्ट्रीमिंग और ब्लूटूथ उपकरण बेचते हैं। ये उपकरण टीवी से जुड़ते हैं और ध्वनि को वायरलेस तरीके से आपके कान की मशीन में स्ट्रीम या संचारित करते हैं। अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख ब्लूटूथ कान की मशीन और 9 नवीनतम विशेषताओं पढ़ें।

लड़की अपने कान की मशीन कान की मशीन का ध्वनि नियंत्रण करते हुए blog image
लड़की अपने कान की मशीन कान की मशीन का ध्वनि नियंत्रण करते हुए। छवि सौजन्य: pngtree

14. ध्वनि नियंत्रण को बार-बार न बदलें

जब लोग सुन नहीं पाते हैं तो वह कान की मशीन के ध्वनि नियंत्रण को ऊपर-नीचे करना शुरू कर देते हैं। यह जानना महत्वपूर्ण है कि कान की मशीन की ध्वनि की मात्रा बढ़ाने से स्पष्टता कम हो जाती है।

ध्वनि का स्तर जितना कम होगा, ध्वनि की स्पष्टता उतनी ही बेहतर होगी। आपके ऑडियोलॉजिस्ट ने आपके ऑडियोग्राम के अनुसार आदर्श मात्रा निर्धारित की है। ध्वनि के स्तर को थोड़ा बढ़ाने से शांत परिवेश में मदद मिलेगी लेकिन उन स्थितियों में शायद ही कभी मदद मिलती है जहां पृष्ठभूमि शोर का स्तर अधिक होता है।

15. कान मशीन फिटिंग के बाद फिर से अपने ऑडियोलॉजिस्ट से मिलें

नए कान की मशीन की आदत पड़ने में समय लगता है। क्लिनिक के शांत वातावरण में ध्वनि की गुणवत्ता और नई ध्वनियों को आंकना मुश्किल है।

एक से दो सप्ताह के लिए नए कान मशीन का उपयोग करें और उन सभी ध्वनियों के बारे में लिखें जो बहुत तेज़ हैं और वे ध्वनियाँ जिन्हें आप सुनना चाहते थे लेकिन सुन नहीं पाए।

क्या आपके कान के साँचे या ITC/CIC मशीन बहुत तंग हैं और कान दर्द कर रहे हैं? या वे ढीले हैं और बाहर गिरते रहते हैं? अपनी सभी समस्याओं के बारे में अपने ऑडियोलॉजिस्ट से चर्चा करें। आपका ऑडियोलॉजिस्ट आपके आराम के स्तर को बढ़ाने के लिए उचित समायोजन कर सकता है और कान की मशीन की आदत डालने में आपकी सहायता कर सकता है।

कान मशीन की आदत डालना एक चुनौतीपूर्ण अनुभव है। एक साथ बहुत सी नई आवाजें सुनना, उम्मीदों और वास्तविकता के बीच समझौता करने के लिए एक सकारात्मक दृष्टिकोण और दृढ़ संकल्प की आवश्यकता होती है।

कान की मशीन की आदत पड़ने में अधिक समय लगने पर हार न मानें, कान की मशीन पहनने की प्रारंभिक असुविधा से लाभ कहीं अधिक हैं। किसी भी प्रकार की असुविधा या कष्ट हो तो अपने ऑडियोलॉजिस्ट से संपर्क करें।

Leave a Comment