रिचार्जेबल कान की मशीन के फायदे और नुकसान

कान की मशीन के उपयोगकर्ताओं को बार-बार बैटरी बदलनी पड़ती है, कुछ कान की मशीन की बैटरियां बहुत कम दिनों तक चलती हैं। बैटरी बदलते रहना एक परेशानी है, कभी-कभी चर्चा या महत्वपूर्ण बैठक के बीच में बैटरी खत्म हो जाती है और नई बैटरी खरीदने के लिए इधर-उधर भागना पड़ता है।

क्या यह संभव है कि हम बैटरी को केवल एक बार डाल दें और फिर कुछ वर्षों तक इसके बारे में न सोचें? हाँ, यह अब संभव है। अब रिचार्जेबल कान की मशीन उपलब्ध हैं।

रिचार्जेबल कान की मशीन क्या है?

रिचार्जेबल कान की मशीन (Rechargeable hearing aids) में एक रिचार्जेबल बैटरी होती है। इस बैटरी को हर रात चार्ज किया जा सकता है और मशीन को दिन में इस्तेमाल किया जा सकता है। रिचार्जेबल बैटरी कुछ वर्षों तक चलती है जिससे बैटरी को हर कुछ दिनों में बदलने की प्रक्रिया समाप्त हो जाती है।

कान की मशीन की बैटरी मशीन का सबसे महत्वपूर्ण उपसाधक हैं। एक समाप्त या कमजोर बैटरी होने पर मशीन काम नहीं करेगी। अधिकतर कान मशीन उपयोगकर्ता जिंक-एयर (Zinc-Air) बैटरियों का उपयोग करते हैं जिनका उपयोग केवल एक बार किया जा सकता है, और खत्म होने पर फेंक दिया जाता है। (जिंक एयर बैटरी के बारे में अधिक जानकारी) ये बैटरियां असुविधाजनक हैं क्योंकि इन्हें नियमित रूप से बदलना पड़ता है। अब सभी कंपनियां रिचार्जेबल कान की मशीन बनाती हैं।

हमें रिचार्जेबल कान की मशीन क्यों खरीदनी चाहिए?

हालांकि रिचार्जेबल कान की मशीन की कीमत खरीदते समय अधिक होती है पर दो से तीन वर्षों की अवधि में उपयोगकर्ता की कुल लागत सामान्य बैटरी की तुलना में बहुत कम होती है। उपयोग में आसानी, बेहतर प्रदर्शन और पर्यावरण के अनुकूल जैसे अन्य फायदे हैं। अधिक जानकारी के लिए आगे पढ़ें।

कान की मशीन की साधारण बैटरी के नकारात्मक विशेषताएं

  • नवीनतम कान की डिजिटल मशीन में चालू या बंद करने के लिए बटन नहीं होता, कान मशीन को बंद करने के लिए उपयोगकर्ता को बैटरी दराज (Battery compartment) को खोलना पड़ता है जिससे कान मशीन बंद हो जाती हैं। कभी-कभी बुजुर्ग सोने से पहले बैटरी दराज खोलना भूल जाते हैं या दराज को पूरी तरह से नहीं खोलते हैं, ऐसे में कान की मशीन उपयोग में न होने पर भी बैटरी की खपत जारी रहती है।
  • श्रवण यंत्रों का आकार दिन पर दिन छोटा होता जा रहा है, तदनुसार, बैटरी का आकार भी छोटा होता जा रहा है। अस्थिर हाथों वाले बुजुर्गों के लिए दराज में बैटरी डालना मुश्किल होता है। उन्हें बैटरी डालने/निकालने के लिए दूसरों पर निर्भर रहना पड़ता है।
कान की मशीन में बैटरी डालने में कठिनाई blog image
कान की मशीन में बैटरी डालने में कठिनाई
  • क्योंकि बैटरी का आकार छोटा होता है कई बार बैटरी नीचे गिर जाती है और ज्यादातर इसे फर्नीचर के नीचे ढूंढना मुश्किल होता है। उपयोगकर्ता को एक नई बैटरी डालनी पड़ती है जिससे खर्च बढ़ जाता है। रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरी को बाहर निकालने की जरूरत नहीं पड़ती।
  • नवीनतम कान की डिजिटल मशीन में ब्लूटूथ (Bluetooth) और ऑडियो स्ट्रीमिंग (Audio streaming) जैसी सुविधाएं हैं। यदि इन सुविधाओं का नियमित रूप से उपयोग किया जाता है तो बैटरी की खपत बढ़ जाती है। उपयोगकर्ता को बार-बार बैटरी बदलनी पड़ती है। उन्नत कान की मशीन की उपयोगी विशेषताएं के बारे में जने।
  • उपयोगकर्ता को अपने साथ अतिरिक्त बैटरी रखनी पड़ती है। कान की मशीन के उपयोग के अनुसार बैटरी की खपत बढ़ सकती है, बैटरी की सही खपत का अनुमान लगाना मुश्किल है और बैटरी कभी भी खत्म हो सकती है।
  • साधारण जिंक-एयर बैटरियों पर रंगीन प्लास्टिक का स्टिकर लगा होता है। स्टिकर यह सुनिश्चित करने के लिए लगाया जाता है कि बैटरी की शक्ति कम न हो। स्टिकर हटाते ही बैटरी काम करना शुरू कर देती है, यदि स्टिकर गलती से हटा दिया जाता है तो बैटरी मशीन में न डालने पर भी काम करना शुरू कर देती है।
  • कान की मशीन उपयोगकर्ताओं को बैटरी खरीदने के लिए दुकान में बार-बार चक्कर लगाने पड़ते हैं। अकेले रहने वाले बुजुर्गों के लिए यह एक बड़ी असुविधा है।
  • इन बैटरियों को उपयोग के बाद फेंकना पड़ता है, इन्हें पुनर्नवीनीकरण नहीं किया जा सकता है। बैटरी में मौजूद रसायन हमारे पर्यावरण के अनुकूल नहीं हैं।
  • बार-बार लागत एक अन्य कारक है। उदाहरण के तौर पर, छोटे आकार की 312 नंबर की बैटरी एक सप्ताह से भी कम समय तक चलती है, इसलिए उपयोगकर्ता को एक वर्ष में लगभग 52 बैटरी खरीदनी पड़ती है।
  • मशीन में डालने से पहले हमें बैटरी के सकारात्मक (Positive) और नकारात्मक (Negative) के बारे में जांचना होगा। अगर बैटरी को सही तरीके से कान मशीन में नहीं डाला जाये तो मशीन का बैटरी दराज टूट सकता है। ऐसे में कान की मशीन को मरम्मत के लिए भेजना होगा।

रिचार्जेबल बैटरी तकनीक के फायदे जानने के बाद, रिचार्जेबल कान की मशीन एक आकर्षक विकल्प बन गया है।

रिचार्जेबल कान की मशीन के प्रकार क्या हैं?

लोकप्रिय कान की मशीन दो प्रकार की रिचार्जेबल सेल तकनीक का उपयोग करते हैं।

  • लिथियम-आयन (Lithium ion) रिचार्जेबल बैटरी तकनीक
  • सिल्वर-जिंक (Silver-Zinc) रिचार्जेबल बैटरी तकनीक


लिथियम आयन की तुलना में सिल्वर-जिंक तकनीक के कुछ अधिक फायदे हैं।

सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन के फायदे

  • सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरियां कम प्रदूषण करती है, इसलिए यह पर्यावरण के अनुकूल है।
  • सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरियां ज्वलनशील नहीं है।
  • सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरियां आकार में छोटी होती हैं। छोटे श्रवण यंत्रों में उपयोग के लिए उपयुक्त हैं।
  • सिल्वर जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरी को मशीन से निकाला जा सकता है। अचानक चार्ज खत्म होने पर, साधारण जिंक-एयर बैटरी का उपयोग किया जा सकता है।
  • चूंकि सिल्वर जिंक रिचार्जेबल बैटरी अलग से उपलब्ध हैं, इसलिए इन्हें पुराने श्रवण यंत्रों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन के नुकसान

  • सिल्वर-जिंक रिचार्जेबल कान की मशीन की बैटरियां लगभग एक से दो वर्ष तक चलती हैं।
  • इनमें लीथियम-आयन बैटरियों की तुलना में कम शक्ति होती है।

लिथियम-आयन रिचार्जेबल कान की मशीन के फायदे

  • बैटरी एक बार चार्ज करने पर आराम से 24 घंटे तक चलेगी।
  • उपयोगकर्ता आराम से ब्लूटूथ (Bluetooth) और ऑडियो स्ट्रीमिंग (Audio Streaming) का उपयोग कर सकते है और बैटरी की शक्ति में मामूली सी कमी हो सकती है।
  • आपको 3 से 4 साल तक बैटरी नहीं बदलनी पड़ेगी

लिथियम-आयन रिचार्जेबल बैटरी के नुकसान या विपक्ष

यूएसबी रिचार्जेबल बैटरी चार्जर blog image
Starkey कंपनी का यूएसबी रिचार्जेबल बैटरी चार्जर

Phonak में एक रिचार्जेबल उत्पाद है जिसे 12 घंटे के उपयोग के लिए केवल 1 घंटे की चार्जिंग की आवश्यकता होती है और 24 घंटे के उपयोग के लिए 3 घंटे की चार्जिंग अच्छी होती है।

Signia (पहले सीमेंस के नाम से जानी जाती थी) कान की मशीन में रिचार्जेबल बैटरी का उपयोग करने वाली पहली कंपनी थी। उनका कान की मशीन का मॉडल स्टाइललेटो (Signia Stilleto) पोर्टेबल बैटरी पैक के साथ आता है। उपयोगकर्ता इलेक्ट्रिक सॉकेट की खोज किए बिना कान की मशीन को चार्ज कर सकते हैं।

GN Resound लिथियम-आयन बैटरी का उपयोग करने वाली पहली कंपनी है। उनके कुछ मॉडलों में अभी भी लिथियम-आयन तकनीक है। उनके नए मॉडल में बैटरी लंबी चलती है।

कान की मशीन निर्माता कान की डिजिटल मशीन तकनीक को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। श्रवण यंत्रों में नवीनतम प्रगति के बारे में हमारा ब्लॉग पढ़ते रहें।

Leave a Comment