कान में फंगल इन्फेक्शन – लक्षण, कारण और उपचार

कान में फंगल इन्फेक्शन, जिसे चिकित्सकीय भाषा में ओटोमाइकोसिस (Otomycosis) कहा जाता है, हमारी बाहरी कान नलिका में फंगस यानी कवक के गठन के कारण होने वाली एक आम समस्या है। इन्फेक्शन होने पर कान लाल हो जाते हैं और खुजली के कारण असुविधा होती है। इस लेख में हम कान में फंगल इन्फेक्शन के लक्षण, कारण, कान में फंगल इन्फेक्शन की दवा और कान में इन्फेक्शन के उपाय पर चर्चा करेंगे।

कान में फंगल इन्फेक्शन के लक्षण

कान में फंगल इन्फेक्शन के लक्षण इस प्रकार हैं।

  • कान में खुजली होना
  • कान में इन्फेक्शन दो प्रकार के होते है, फंगल इन्फेक्शन और कान में जीवाणु इन्फेक्शन। जीवाणु कान के संक्रमण की तुलना में कान में फंगल इन्फेक्शन में खुजली अधिक होती है और कान में जलन भी होती है।
  • कान लाल होना
  • कान में सूजन
  • खुश्क कान। कान का गंधक एक सुरक्षात्मक परत के रूप में काम करता है जो कान की नलिका में चिकनाई बनाए रखता है।
  • कान बंद होना
  • कान बजना या टिनिटस
  • बहरापन या कान से कम सुनाई देना
  • हल्का कान दर्द
  • कान का बहना

कान में इन्फेक्शन कैसे होता है?

हम अनेक प्रकार के कवकों या फंगस से घिरे हुए हैं और नियमित रूप से उनके संपर्क में आते हैं। हर किसी को कान में फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा नहीं होता है, यह ज्यादातर उन लोगों को प्रभावित करता है जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है।

एस्परगिलस (Aspergillus) नाम का फंगस कान में फंगल इन्फेक्शन का मुख्य कारण है। एस्परगिलस के बाद कैंडिडा (Candida) नाम का फंगस कान में फंगल इन्फेक्शन का दूसरा सबसे आम कारण है।

यदि एस्परगिलस कान में फंगल इन्फेक्शन का कारण है, तो आप कान नलिका में भूरे-काले या पीले धब्बे को रूई जैसे फंगस से घिरे हुए देखेंगे।

यदि कान में फंगल इन्फेक्शन का कारण कैंडिडा है, तो आपको कोई फंगस नहीं दिखाई देगा, लेकिन गाढ़ा सफेद स्राव होगा।
दाद (Ringworm) भी एक प्रकार का कान में फंगल इन्फेक्शन है; आप कान पर एक गोल दाद देखेंगे जो लाल और खुजलीदार होता है।

निम्नलिखित कारणों से कान में फंगल इन्फेक्शन होने का अधिक खतरा होता है।

  • गर्म उष्णकटिबंधीय जलवायु में रहना
  • मधुमेह से पीड़ित
  • दूषित पानी में तैरना
  • एक्जिमा से पीड़ित
  • कान में खुला घाव होना
  • शुष्क कान
  • कम प्रतिरक्षा
  • स्टेरॉयड और एंटीबायोटिक्स का उपयोग करना।
  • एंटीबायोटिक कान में डालने की दवा।

क्या कान का इन्फेक्शन खतरनाक है?

प्रारंभिक अवस्था में कान का फंगस सिर्फ एक जलन पैदा करता है और असुविधा का कारण बनता है। यदि दवा की दुकान पर मिलने वाली एंटी फंगल मलम का उपयोग करने से यह ठीक नहीं होता है तो आपको बिना किसी देरी के कान के डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

उपेक्षा से बहरापन, कान के परदे में छेद और टेम्पोरल हड्डी (कनपटी की हड्डी) का इन्फेक्शन हो सकता है। टेम्पोरल हड्डी (Temporal bone) हमारी खोपड़ी का हिस्सा है जो मध्य और भीतरी कान को घेरता है।

कम प्रतिरक्षा, मधुमेह या एक्जिमा से पीड़ित लोगों को विशेष ध्यान रखना चाहिए और डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

कान में फंगल इन्फेक्शन की तस्वीरें। blog image
कान में फंगल इन्फेक्शन की तस्वीरें। छवि सौजन्य डॉ सेठी

कान में इन्फेक्शन के लक्षण

डॉक्टर ओटोस्कोप का उपयोग करके कान नलिका की जांच करेंगे। ओटोस्कोप कान नहर को रोशन करता है और संक्रमित कान नलिका के दृश्य को बड़ा करता है।

डॉक्टर अलग-अलग रंगों के फैले हुए फंगल संग्रह या पूरी नलिका में भरे हुए फंगस को देख सकते हैं। यह इन्फेक्शन की गंभीरता पर निर्भर करता

कान में इन्फेक्शन के उपाय

कान का डॉक्टर पहले कान को साफ करेंगे और कान से फंगस निकालने के लिए माइक्रोस्कोपिक सक्शन (Microscopic suction) का इस्तेमाल करेंगे। कानों को सुखाने के लिए डॉक्टर एंटी फंगल मलहम को बंद करने की सलाह दे सकते हैं। अगर फंगल इंफेक्शन कान का निचला मांसल भाग (ear lobe) पर है तो एंटी फंगल मलहम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

कान में इन्फेक्शन की दवा

ज्यादातर मामलों में, तीन सप्ताह के लिए एंटी फंगल कान की बूंदें निर्धारित की जाती है। क्लोट्रिमेज़ोल (Clotrimazole) और फ्लुकोनाज़ोल (fluconazole) युक्त कान में इन्फेक्शन की दवा सबसे प्रभावी हैं।

यदि कान की बूंदों का असर नहीं हो रहा है तो इट्राकोनाज़ोल (Itraconazole) या वोरिकोनाज़ोल (Voriconazole) युक्त कान में फंगल इन्फेक्शन की दवा की गोलियाँ लेनी चाहिए।

एसिटिक एसिड (Acetic acid) कान में इन्फेक्शन के उपाय में से एक है। आमतौर पर इन कान की बूंदों का दो प्रतिशत घोल दिन में दो से तीन बार लगभग एक हफ्ते तक इस्तेमाल किया जाता है।

केवल कान में फंगल इन्फेक्शन की दवा का ही उपयोग करें, एंटी बैक्टीरियल कान की बूंदों का उपयोग न करें। एंटी बैक्टीरियल कान की बूंदों का इस्तेमाल करने से कान में फंगस से लड़ने वाले अच्छे बैक्टीरिया खत्म हो जाएंगे।

कान में फंगल इन्फेक्शन के घरेलू उपाय

कान में फंगल इन्फेक्शन के शुरुआती चरण में घर पर इलाज संभव है। हाइड्रोजन पेरोक्साइड या कार्बामाइड पेरोक्साइड युक्त कान की बूंदे किसी भी दवा की दुकान पर उपलब्ध हैं।

तैराकों को सलाह दी जाती है कि वे अपने कानों को सूखा रखने के लिए शल्यक स्पिरिट (Isopropyl rubbing alcohol) और सफेद सिरके के मिश्रण का उपयोग करें।

कुछ प्राकृतिक तेलों में एंटी फंगल गुण होते हैं। तेलों का उपयोग तभी करें जब उनमें एंटी फंगल गुण हों। खुजली से राहत पाने के लिए किसी भी तेल का उपयोग करने की सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि यह फंगस के विकास को बढ़ावा दे सकते हैं।

तेल का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब संक्रमण बाहरी कान में हो। कान में तेल की बूंदे न डालें, रूखी त्वचा पर अपनी उंगली से हल्के हाथों से तेल लगाएं।

ओटोस्कोप से कान में फंगल इन्फेक्शन के लिए जांच Blog image
ओटोस्कोप से कान में फंगल इन्फेक्शन के लिए जांच छवि सौजन्य freepik.com

क्या कान में फंगल इन्फेक्शन फैल सकता है?

अगर कान में फंगल इन्फेक्शन तैरने के कारण हुआ है, तो यह इन्फेक्शन दूषित पानी से फैला है। कान में फंगल इन्फेक्शन होने पर तैरने से बचें।

नम मौसम के दौरान, नमी के संपर्क में आने वाली चीज़ें या कपड़ों पर फंगस पनपने लगता है। फंगस से संक्रमित कपड़ों या चीज़ों को छूने से फंगस हमारे हाथों पर लग जाता है। कई बार हम उन्हीं उंगलियों को अपने कान में डाल लेते हैं। यह कान में फंगल इन्फेक्शन के कारणों में से एक है।

जबकि कान में फंगल इन्फेक्शन के ज्यादातर मामले बाहरी स्रोतों से फैलते हैं। फंगस कान में भी विकसित हो सकता है। गर्म और आर्द्र मौसम द्वारा समर्थित कान नलिका में मृत त्वचा कान में इन्फेक्शन का कारण बन सकती है।

अगर कान में फंगल इन्फेक्शन बार-बार आता रहे तो क्या करें?

बार-बार होने वाले कान में फंगल इन्फेक्शन का मुख्य कारण हमारे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता की कमी है। विकिरण चिकित्सा (Radiation therapy) से गुजरने वाले या मधुमेह या एड्स से पीड़ित रोगियों में बार-बार कान में फंगल इन्फेक्शन होने की संभावना अधिक होती है।

कान की बूंदों का अत्यधिक उपयोग कान में इन्फेक्शन को बढ़ावा देता है क्योंकि यह कान नलिका में मौजूद प्राकृतिक सुरक्षात्मक परत को हटा देता है।

कान के बहने से भी कान नलिका की रक्षात्मक परत हट सकती है। कान में फंगल इन्फेक्शन को रोकने के लिए कान बहने का इलाज करें।

पालतू जानवरों से फंगस फैलने के मामले सामने आए हैं। पालतू जानवरों के साथ खेलते समय अपनी उंगली अपने कानों में न डालें और पालतू जानवरों के संपर्क में आने के बाद अपने हाथों को कीटाणुनाशक (एंटीसेप्टिक) साबुन से धोएं।

गंदे या दूषित पानी में न तैरें। उन स्विमिंग पूल में तैरने से बचें जिनमें पानी शुद्ध करने की सुविधा नहीं है।

क्या कान में फंगल इन्फेक्शन से कोई गंभीर समस्या हो सकती है?

हालांकि कान में फंगल इंफेक्शन कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन इलाज में देरी करना या व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने पर समस्या पैदा हो सकती है।

कान में इन्फेक्शन के उपाय में देरी से बहरापन, कान के पर्दे में सुराख और कनपटी की हड्डी में इंफेक्शन हो सकता है। फंगल संक्रमण बाहरी कान में शुरू होता है और कान के पर्दे से आगे कनपटी की हड्डी तक फैल जाता है।

कान में फंगल इन्फेक्शन को कैसे रोकें?

यदि आप एक्जिमा से पीड़ित हैं या मधुमेह रोगी हैं, तो आपको सावधानी बरतनी चाहिए और कान के फंगल संक्रमण को रोकने के लिए इन सरल चरणों का पालन करना चाहिए।

  • यदि आप नियमित तैराक हैं तो अपने कानों को सूखा रखें। कान नहर में फंगस के विकास के लिए एक गीला और नम कान एक आदर्श स्थान है।
  • नहाने के बाद अपने कानों को अच्छे से सुखा लें। अपने कानों को हल्के से सुखाएं। ज़ोरों के साथ साफ करने से खरोच आ सकती है जिससे फंगल संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है।
  • कानों को सुखाने के लिए शल्यक स्पिरिट और सफेद सिरके के मिश्रण का प्रयोग करें।
  • रुई के फाहे कान में मत डालें, यदि आप उनका उपयोग करते हैं तो कोमलता से करें ताकि कान का मैल अंदर न जाए।
  • यदि आप संगीत सुनने के लिए ईयरबड्स का उपयोग करते हैं तो उन्हें नियमित रूप से साफ़ करने के लिए रोगाणुरोधक का उपयोग करें या कान के संक्रमण की अवधि के दौरान उपयोग न करें।
  • कान का मैल बार बार न निकालें, अगर ज्यादा है तो साफ करें। थोड़ा कान का मैल अच्छा होता है, यह कान की नलिका को चिकना रखता है और कान में फंगल इन्फेक्शन से बचाता है।

कान में फंगल इन्फेक्शन को रोकने और अपने कानों को स्वस्थ रखने के लिए ऊपर बताए गए सुझावों का पालन करें।

Reference:

Leave a Comment