कान से कम सुनाई देना? जानें इस समस्या का समाधान

कहीं छोटे बच्चों के खिलखिलाने की आवाज़ आ रही है, तो कहीं मधुर संगीत बज रहा है, कहीं हंसी-ठिठोली तो कहीं कविता पाठ हो रहा है। क्या आपको यह आवाजे सुनाई नहीं दे रही है? कहीं ऐसा तो नहीं की कान से कम सुनाई देने के कारन आप इन आनंदमयी अनुभूति का अनुभव नहीं कर पा रहे हैं?

कान से कम सुनाई देना एक गंभीर समस्या है। लोग इससे पीड़ित होने के बावजूद इसे नज़रअंदाज़ करते हैं। कान से कम सुनाई देना आपके दैनिक जीवन को अस्त-व्यस्त कर सकता है। आपको अपने कान की समस्याओं को नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। यह आलेख कान से कम सुनाई देने के संबंध में आपके सवालों का जवाब देगा और उपचार सुझाएगा।

क्या कान से कम सुनाई देना बहरेपन का लक्षण है?

कान से कम सुनाई देना बहुत आम है और इसे छिपाने की कोशिश न करें। पश्चिमी देशों में, 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में 10 में से 3 को बहरापन है। हमारे देश में गिनती अधिक होगा क्योंकि हमारे शहरों में शोर प्रदूषण अधिक है।

हमें कैसे पता चलेगा कि कान से कम सुनाई देना आसपास के तेज शोर के कारण है या बहरापन दस्तक दे रहा है? नीचे दी गई स्थितियों की जाँच करें और पुष्टि करें कि क्या यह आप पर लागू होती हैं या नहीं। आपके उत्तर यह निर्धारित करने में आपकी सहायता करेंगे कि यह एक अस्थायी चरण है या कान से कम सुनाई देना बहरेपन की शुरुआत है।

कान में कम सुनाई देने के सामान्य लक्षण क्या हैं?

  • यदि कोई व्यक्ति पीछे या कुछ दूर से बात कर रहा है तो बातचीत को सुनने में कठिनाई।
  • समूह चर्चा करते समय सुनने में कठिनाई। जैसे ऑफिस की मीटिंग या परिवार का मिलन।
  • सुनने में कठिनाई अगर बातचीत शोर-शराबे वाले क्षेत्र में हो जैसे कि रेस्तरां में या किसी सार्वजनिक स्थान पर।
  • कई बार प्रभावित व्यक्ति सुन सकता है लेकिन कुछ शब्द समझ नहीं पाता।
  • अगर कोई बुलाता है तो यह जानना मुश्किल है कि आवाज़ किस दिशा से आ रही है।
  • सामान्य रोजमर्रा के शब्दों और आवाज़े सुनने में असमर्थ।
  • दरवाजे की घंटी या टेलीफोन की घंटी सुनने में असमर्थ।
  • टेलीफोन पर बातचीत करते समय कुछ शब्द सुनने में कठिनाई।
  • पुरुषों की तुलना में बच्चों और महिलाओं के साथ बातचीत करने में कठिनाई होना।

यह सभी लक्षण कान से कम सुनाई देना दर्शाते हैं जो कम हो रही सुनने की क्षमता की ओर संकेत कर रहे हैं।

कान से कम सुनाई देने के सामान्य कारण क्या हैं?

आइए जानते हैं कि बहरेपन के सामान्य कारण क्या हैं।

  • वृद्धावस्था – ढलती उम्र के कारण कान से कम सुनाई देना। इस प्रकार के बहरेपन को संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन कहते हैं।
  • अचानक कोई तेज़ आवाज़ से संपर्क में आना।
  • अत्यधिक अथवा मध्यम तीव्रता के शोर से निरंतर संपर्क में रहना।। शोर हमारे आंतरिक कान में कोक्लीआ के संवेदनशील बाल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है।
  • कान में संक्रमण
  • कान के दर्द से संबंधित बीमारी
  • कान के पर्दे में सुराख


उम्र से संबंधित बहरेपन के मामलों में सुनने की शक्ति में धीरे-धीरे कम होती है। इसलिए प्रभावित व्यक्ति को पता नहीं चलता है और वह सोचता है कि दूसरे आहिस्ता बोल रहे हैं या स्पष्ट रूप से नहीं बोल रहे हैं।

ऐसे स्तिथि में परिवार के सदीस्यों को उन्हें सचेत करना चाहिए और कानों की जांच कराने पर जोर देना चाहिए। जब आप अपने डॉक्टर से मिलें, तो अपने पिछले चिकित्सा मामले के सभी कागजात अपने साथ ले जाना न भूलें।

यह भी जांचें कि आपके परिवार में या आपके पिता या माता के परिवार में किसी को बहरापन और अन्य कान की समस्याओं तो नहीं हैं? कुछ मामलों में बहरापन अनुवांशिक हो सकता है। कान का डॉक्टर आपके कानों की जांच करेंगे, यदि क्षति या संक्रमण के कोई संकेत नहीं हैं तो वह आपको श्रवण परीक्षण के लिए ऑडियोलॉजिस्ट से मिलने की सलाह देंगे। इस श्रवण परीक्षण को ऑडियोमेट्री कहा जाता है और यह बहरेपन की मात्रा निर्धारित करता है।

इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, कृपया ध्यान दें कि यदि कान से कम सुनाई देना रातोंरात या कुछ दिनों के भीतर हुआ है तो इसे अचानक सुनवाई हानि कहा जाता है।

अचानक सुनवाई हानि क्या है?

यह संभव है कि आपको एक रात में या कुछ दिनों की अवधि में कान से कम सुनाई दे। इस स्थिति को अचानक सुनवाई हानि के रूप में जाना जाता है और इसे चिकित्सा आपात स्थिति माना जाता है। आप जितनी जल्दी डॉक्टर की मदद लेंगे, ठीक होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। 14 दिन पार करने के बाद उपचार की संभावना कम हो जाती है। अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख अचानक सुनवाई हानि के लक्षण, कारण और उपचार पढ़ें।

कान में कम सुनाई देने के मामले में किससे परामर्श करना चाहिये?

अगर ऊपर बताए गए बिंदु आप पर लागू होते हैं तो सुनिश्चित करने के लिए कि आपका संदेह सही हैं या नहीं आपको ऑडियोलॉजिस्ट से मिलना चाहिए।

ऑडियोलॉजिस्ट से अपनी बहरेपन की व अन्य कान की समस्याओं के बारे में चर्चा करें और सभी संभावित जानकारी दें। ऑडियोलॉजिस्ट को आपकी सुनने की समस्या को समझने में मदद मिलेगी।

कान से कम सुनाई देना?  ऑडियोमेट्री टेस्ट blog image
ऑडियोलॉजिस्ट एक मरीज का ऑडियोमेट्री टेस्ट कर रही है।

जब ऑडियोलॉजिस्ट ऑडियोमेट्री टेस्ट पूरा कर लेता है तो रिपोर्ट से पता चल जाएगा कि आप किस प्रकार के बहरेपन से पीड़ित हैं और आपको कितना बहरापन या कितने प्रतिशत बहरापन है।

बहरेपन के प्रकार क्या हैं?

आइए जानते हैं बहरेपन के प्रकार के बारे में। बहरापन तीन मुख्य प्रकार के होते हैं।

  • संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन
  • प्रवाहकीय श्रवण हानि या कंडक्टिव बहरापन
  • मिश्रित बहरापन

बहरेपन का उपचार बहरेपन के प्रकार पर निर्भर करता है।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के कारण कान से कम सुनाई देना

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन कान की नसों की कमज़ोरी के कारण या हमारे भीतरी कान में नाजुक बालों की कोशिकाओं के नुकसान के कारण होता है। यह बहरापन मानव कान के संवेदी और तंत्रिका भागों के ख़राब या कम संवेदनशील होने के कारण होता है।

यदि कान से कम सुनाई देना दोनों कानों में है तो इसे बाइलैटरल सेंसेरिन्यूरल बहरापन (द्विपक्षीय बहरापन) के रूप में जाना जाता है। अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के लक्षण, कारण और उपचार पढ़ें।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन या कान की कमजोर नसों का इलाज करने के लिए कोई दवा या शल्य चिकित्सा प्रक्रिया नहीं है। इस समस्या को हल करने के लिए दवा बनाने वाली कंपनियां समाधान के बहुत करीब हैं।

समाधान प्रदान करने के लिए जीन थेरेपी (Gene Therapy) और स्टेम सेल टेक्नोलॉजी (Stem cell technology) में भी अनुसंधान एक उन्नत चरण में है। वह दिन अब दूर नहीं है जब संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन का उपचार एक गोली खाना जितना सरल होगा।
संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के लिए कान की मशीन अच्छा और आम उपाय है। यदि आप कान की मशीन खरीदने का निर्णय लेते हैं, तो आपका ऑडियोलॉजिस्ट आपका मार्गदर्शन करेगा। अधिक जानकारी के लिए आप हमारे लेख कान की मशीन के प्रकार और सबसे अच्छी कान की मशीन कैसे चुनें? पढ़ सकते हैं।

ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा कान की मशीन की फिटिंग। blog image
ऑडियोलॉजिस्ट द्वारा कान की मशीन की फिटिंग।

काक्लीयर इम्प्लांट भी एक विकल्प है। यह विकल्प बहुत आम नहीं है क्योंकि इसमें ऑपरेशन करना पड़ता है और कान की मशीन की तुलना में अधिक महंगा है। काक्लीअर इम्प्लांट सर्जरी उन उम्मीदवारों के लिए है जो एक निश्चित चिकित्सा मानदंड को पूरा करते हैं। इम्प्लांट के इलेक्ट्रोड को काक्लीअ में शल्य चिकित्सा से लगाया जाता है। इम्प्लांट के इलेक्ट्रोड विद्युत आवेग प्रदान करते हैं। यह क्षतिग्रस्त बालों की कोशिकाओं का काम करता है जिससे हम फिर से सुन सकते हैं।

प्रवाहकीय श्रवण हानि या कंडक्टिव बहरापन के कारण कान से कम सुनाई देना

हमारा कान तीन भागों में बंटा है। बाहरी कान, मध्य कान और आंतरिक कान। हमारे बाहरी कान तक पहुंचने वाले ध्वनि संकेत मध्य कान से गुजरते हुए आंतरिक कान तक पहुंचते हैं। इसे प्रवाहकीय श्रवण प्रक्रिया कहा जाता है।

यदि बाहरी या मध्य कान में श्रवण प्रवाहकीय प्रक्रिया में कोई बाधा है, तो ध्वनि तरंगें आंतरिक कान तक नहीं पहुंच पाती हैं और व्यक्ति ठीक से सुन नहीं पाता। इसे प्रवाहकीय श्रवण हानि कहते हैं।

आपको यह जानकर खुशी होगी की ज्यादातर मामलों में प्रवाहकीय श्रवण हानि का दवाओं या आपरेशन से सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख प्रवाहकीय श्रवण हानि – लक्षण कारण और इलाज पढ़ें।

मिश्रित बहरापन के कारण कान से कम सुनाई देना

जैसा कि नाम से पता चलता है कि नुकसान आंशिक रूप से सेंसरिनरल कारणों और आंशिक रूप से प्रवाहकीय कारणों के कारण होता है। यह प्रवाहकीय हानि और सेंसरिनरल बहरापन का एक मिश्रण है।

इस प्रकार के बहरेपन में प्रवाहकीय श्रवण हानि का इलाज किया जा सकता है, लेकिन संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापनका इलाज नहीं किया जा सकता है।

कान से कम सुनाई देना युवाओं को भी प्रभावित कर रहा है, इसका कारण है बढ़ता ध्वनि प्रदूषण और हेडफोन के जरिए तेज आवाज में संगीत सुनना। बहरेपन को नजरअंदाज न करें, अपने कान के स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखें।

यदि आप बहरेपन के बारे में किसी भी प्रश्न के उत्तर की तलाश में हैं तो हमारे लेख बहरापन के बारे में जानकारी – आपके सभी प्रश्नों के उत्तर पढ़ें।