टिनिटस के लक्षण, कारण और इलाज

आजकल टिनिटस की परेशानी से कई लोग पीड़ित हैं।  लगभग 20% लोग टिनिटस से प्रभावित है और इसके मामले तेजी से बढ़  रहे हैं। आमतौर पर टिनिटस के लक्षण में से एक लक्षण कान में सीटी बजना भी हैं।

कान में सीटी बजना जैसी परेशानी के कई कारण हैं जिनके बारे में हम पढ़ेंगे, मामलों में वृद्धि ध्वनि प्रदूषण और अस्वास्थ्यकर जीवनशैली ज़िम्मेदार है। चूंकि कई लोग टिनिटस से पीड़ित हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि वे इसके विवरण से अवगत हों। इस लेख में हम टिनिटस के लक्षणों, कारणों और इलाज के बारे में जानेंगे।

टिनिटस के लक्षण, कारण और इलाज blog feature image

टिनिटस अथवा कर्णक्ष्वेण का मतलब होता है कान में सीटी बजना। यह एक कान में या दोनों कानों में हो सकता है।

टिनिटस में हम किस प्रकार का शोर सुनते हैं?

कान में विभिन्न प्रकार की ध्वनि सुनना टिनिटस के लक्षण हैं, कान में सुनाई देने वाली ध्वनि आंतरिक है, बाहरी नहीं है। ये ध्वनि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के लिए भिन्न-भिन्न हो सकती है। टिनिटस से पीड़ित लोग निम्न प्रकार की आवाजें सुनते हैं जैसे:

● कान में सीटी बजना
● घंटी बजने की आवाज
● सिसकी की आवाज़
● किसी चीज़ पर क्लिक करने की आवाज (दुर्लभ मामले)

टिनिटस के लक्षण क्या हैं?

कान में सीटी बजना blog image
कान में सीटी बजना

टिनिटस विभिन्न तरीकों से लोगों को प्रभावित करता है। टिनिटस के सभी मामलों में सामान्य बात यह होती है कि शोर निरंतर रहता है। समय और स्थान के अनुसार शोर की मात्रा भी बदलती रहती है। कुछ लोगों के लिए, यह रात के सन्नाटे के कारण सहन करना असहनीय हो जाता है।

दिन के दौरान शोर पर ध्यान नहीं जाता हैं क्योंकि लोग अपने-अपने काम में व्यस्त होते हैं। कभी-कभी टिनिटस बाहरी शोर से भी ढक दिया जाता है (Masking) इसलिए लोग दिन के समय इस पर ज्यादा ध्यान नहीं देते है। थकान या मानसिक तनाव भी शोर की तीव्रता को बदल सकता हैं।

बहुत तेज संगीत सुनने से भी कानों में सीटी बजती है। उदाहरण के लिए, एक संगीत समारोह या किसी पार्टी जहाँ बहुत तेज आवाज़ में संगीत बज रहा हो, पार्टी से वापिस आने के बाद कभी-कभी कान का बजना बहुत आम है।

इस परिस्थिति में कान में सीटी बजना अस्थायी है और उचित आराम के बाद गायब हो जाती है। कभी-कभी कान के मैल को निकालने की भी आवश्यकता होती है। अगर फिर भी आपके कान बजते रहते है तो यह टिनिटस का मामला हो सकता है और आपको अपने कान के डॉक्टर को जल्द से जल्द दिखाना चाहिए।

क्या टिनिटस एक बीमारी है?

टिनिटस अपने आप में एक बीमारी नहीं है, बल्कि कान के किसी और हिस्से में कोई परेशानी या कान के ही किसी रोग या संक्रमण के होने का परिणाम हो सकता है|

कान में सीटी बजने के कारण क्या हैं?

टिनिटस एक जटिल समस्या है; इसका दुष्प्रभाव इनमें से किसी भी हिस्से में हो सकता है|

● बाहरी कान
● मध्य कान
● आंतरिक कान
● मस्तिष्क

कान में सीटी बजने के कुछ सामान्य कारण निम्नलिखित हैं।

1. तेज आवाज़ के संपर्क में आना

फैक्ट्रियों में काम करने वाले लोग जो की बिना ईयर प्लग (कान संरक्षण उपकरण) के काम करते हैं और लंबे समय तक तेज संगीत सुनने वाले युवाओं को कान में सीटी बजने का खतरा ज्यादा होता है|

2. उम्र से संबंधित बहरापन

उम्र बढ़ने की वजह से बहरेपन से पीड़ित लोगों में टिनिटस का खतरा अधिक होता है।

3. कान में संक्रमण

गंभीर कान में संक्रमण, जिसके परिणामस्वरूप कान का दर्द और टिनिटस भी हो सकता है।

4. सिर पर चोट

कान या रीढ़ की हड्डी के पास सिर पर चोट लगना कान में सीटी बजने के कारण हो सकते है। इस मामले में, कान में सीटी बजने की समस्या सिर्फ उस कान में होगी जिसमें चोट लगी है, दोनों कानों के प्रभावित होने की संभावनाएं कम होती हैं |

5. कान के मैल के कारण टिनिटस

यदि कान का मैल कठोर हो जाता है और कान के परदे को छूने लगता है, तो इसका परिणाम कान में सीटी बजना हो सकता है। ज्यादातर कान का मैल हटाने के बाद टिनिटस दूर हो जाता है। अपने कानों को हमेशा साफ रखें और नियमित अंतराल पर कानों के मैल को निकलवाइए।

6. मध्य कान की हड्डी की कठोरता (ओटोस्क्लेरोसिस)

मध्य कान में हड्डियों का अकड़ना बहरेपन का कारण बनता है। वह भी कान बजने का एक परिणाम हो सकता है|

7. ट्यूमर (गांठ)

एक ट्यूमर जो कान से जुड़े रक्त वाहिका या तंत्रिका को प्रभावित करता है, परिणामस्वरूप कान में सीटी बजने का कारण हो सकता है।

8. उच्च रक्त चाप

उच्च रक्तचाप के कारण होने वाले टिनिटस को चिकित्सा-विज्ञान के संदर्भ में पल्सेटाइल टिनिटस कहा जाता है।

9. दवाओं का अत्यधिक उपयोग

कान में सीटी बजना दवाओं का अत्यधिक उपयोग blog image
कान में सीटी बजना दवाओं का अत्यधिक उपयोग

कुछ एंटीबायोटिक दवाओं जैसे एंटीडिप्रेसेंट्स (Anti-Depressants) या एस्पिरिन (एसपरो, डिस्परीन आदि) की भारी मात्रा लेने के कारण भी टिनिटस होता है। ऐसी दवाओं का कम उपयोग करना भी टिनिटस को कम या ठीक कर सकता है।

10. जीवन शैली

कान में सीटी बजने के कारण एक अस्वास्थ्यकर जीवन शैली है। इसमें कॉफी, शराब, धूम्रपान और नशीली दवाओं का दुरुपयोग व अत्यधिक सेवन करना शामिल होता है|

ऊपर दिए गए टिनिटस के कारणों में कुछ ही कारणों का उल्लेख किया गया है। मगर इसके कुछ अन्य कारण भी हैं जो आपको कान का डॉक्टर से परामर्श के बाद ही मालूम हो सकते हैं।

क्या टिनिटस का इलाज संभव है?

आज तक, टिनिटस का कोई पुख्ता इलाज नहीं है। लेकिन एक अनुशासित जीवन शैली का पालन करके टिनिटस के प्रभाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है। आपको अपने कान के डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए और उनकी सलाह का पालन करना चाहिए।

टिनिटस के प्रभाव को कम करने के लिए कुछ सुझाव

पूरी तरह से टिनिटस का इलाज संभव नहीं है, लेकिन नीचे दिए गए सुझावों का पालन करके हम टिनिटस के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

  • अपने कान के संक्रमण और कान में मैल जमने का ध्यान रखें

यदि आपको कान में संक्रमण है या कान में मैल जमने से कर्ण नलिका (ईयर कैनाल) में रुकावट है, तो कृपया संक्रमण इलाज करवाएं। घर पर अपने कानों को साफ करने के सुझावों पर हमारे ब्लॉग को पढ़ें।

  • कान संरक्षण उपकरण का उपयोग करें।

यदि आप कोई उच्च शोर वाले क्षेत्रों में रह रहे है तो अपने कान को सुरक्षित रखने के लिए कान संरक्षण उपकरण (ईयर प्रोटेक्टर्स) का उपयोग करें। भारी यातायात वाले मुख्य मार्गों के करीब रहने वाले, या कारखानों में काम करने वाले लोग शोर से बच नहीं सकते। टिनिटस के प्रभाव को कम करने के लिए कान सुरक्षा उपकरणों के लाभों के बारे में पढ़ें।

  • टिनिटस मास्किंग (Tinnitus Masking)

इन दिनों उपलब्ध डिजिटल कान की मशीनों में बना-बनाया कान की सीटी की आवाज़ को दबानेवाला (बिल्ट-इन टिनिटस मास्किंग) विकल्प हैं। अन्यथा, टिनिटस मास्किंग हियरिंग एड्स (टिनिटस ढकने वाली कान की मशीनें) उपलब्ध हैं।

टिनिटस मास्कर क्या हैं?

टिनिटस मास्कर एक श्रवण सहायक उपकरण है जो आपके कानों में सुखदायक या बहुत हल्की ध्वनि बजाता है। यह ध्वनि व्यक्ति के कानों में उत्पन्न ध्वनि को “मास्क” करती है या ढक देती है। मास्किंग ध्वनि सुखदायक संगीत के रूप में होती है, और प्राकृतिक ध्वनि जैसे झरने व लहरों के रूप में होती है|

टिनिटस मास्किंग ऐप “ऐप स्टोर” या “प्ले स्टोर” में उपलब्ध हैं। स्मार्ट फोन वाले लोग इन ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं। उन्नत डिजिटल कान की मशीनों के उपयोगकर्ता ब्लूटूथ तकनीकी (Bluetooth Technology) के माध्यम से अपने स्मार्टफोन से जुड़ सकते हैं और उपलब्ध विभिन्न ध्वनियों को सुन सकते हैं।

  • टिनिटस को नियंत्रित करने के लिए ध्यान लगाना

ध्यान लगाने जैसे वैकल्पिक समाधान टिनिटस के लिए अद्भुत रूप से कारगर साबित होते हैं। यह मन-मस्तिष्क को शांत करता है और कान की सीटी वाले शोर के स्तर को कम करता है। शून्य मुद्रा जैसे योग आसन टिनिटस के शोर को कम करने में मदद करते हैं।

  • टिनिटस रिट्रेनिंग थेरेपी (TRT)

TRT (Tinnitus Rehabilitation Therapy) संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी का उपयोग करता है। यह शोर को अनदेखा करने और पृष्ठभूमि (बैकग्राउंड) में धकेलने के लिए प्रशिक्षित करता है।

  • टिनिटस को नियंत्रित करने के लिए रक्तचाप और तनाव को नियंत्रित करें

अपने खुद के स्वास्थ्य का ध्यान रखना कान में सीटी बजने की तीव्रता को कम करने में मदद करता है। उच्च रक्तचाप, हृदय संबंधी स्वास्थ्य और मधुमेह को नियंत्रण में रखें। नियमित व्यायाम भी बहुत सहायक है। उन 7 बीमारियों के बारे में पढ़ें जो बहरेपन और टिनिटस का कारण बन सकती हैं

  • टिनिटस को नियंत्रित करने के लिए बेहतर भोजन की आदतें

सोडियम (लवण) और कैफीन (चाय या कॉफी में पाया जाने वाला पदार्थ) का सेवन कम करें। फास्ट फूड (बाज़ार का खाना) से बचें जिनमें सोडियम की मात्रा ज्यादा होती है। अपने रोज़ के खान-पान में बदलाव करें और बहुत अधिक कॉफी का सेवन करने से बचें, उसकी जगह ग्रीन टी पिएँ।

टिनिटस अथवा कर्णक्ष्वेण आम तौर पर 40 की उम्र से अधिक आयुवर्ग के लोगों को प्रभावित करता है। इसके मामले बढ़ रहे हैं, आजकल यह कम उम्र वाले लोगों को भी प्रभावित कर रहा है। जो लोग हेडफ़ोन के साथ ज़ोर से संगीत सुनते हैं, उन्हें कान में सीटी बजने या टिनिटस होने का खतरा अधिक होता है।

जहाँ तक हो सके ईयर प्लग्स (कर्ण संरक्षण उपकरण) का इस्तेमाल करें और अच्छे कान स्वास्थ्य के लिए अच्छे पोषक खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

टिनिटस को नियंत्रित किया जा सकता है। अपने ईएनटी विशेषज्ञ द्वारा की दी गयी सलाह का अच्छे से पालन करें।

2 thoughts on “टिनिटस के लक्षण, कारण और इलाज”

Leave a Comment