क्या मोबाइल फोन के कारण बहरापन हो सकता है?

1122

हमारा मोबाइल फोन हमारी पहचान का एक हिस्सा बन गया है, अगर हमारा मोबाइल फोन खो जाता है या दिखाई नहीं दे रहा है तो हम घबरा जाते हैं। हालांकि मोबाइल फोन ने दूरियों को करीब लाया है और एक दूसरे से बात करना आसान बना दिया है, लेकिन इससे स्वास्थ्य संबंधी खतरे बढ़ गए हैं। विभिन्न अध्ययनों ने साबित किया है कि हमे मोबाइल फोन के कारण बहरापन हो सकता है। आइए जानें कि मोबाइल फोन के उपयोग के कारण होनेवाला बहरेपन से कैसे बचा जाए।

क्या मोबाइल फोन के कारण बहरापन हो सकता है? Blog feature image

मोबाइल फोन के कारण बहरापन कैसे होता है?

हम 3 कारणों के बारे में पढ़ेंगे जिनकी वजह से मोबाइल फोन के कारण बहरापन होने की बहुत ही उच्च संभावना  है।

1. मोबाइल पर तेज आवाज में बात करना और तेज आवाज में संगीत सुनने के कारण कान की समस्या

मोबाइल फोन के माध्यम से संगीत सुनना
मोबाइल फोन के माध्यम से संगीत सुनना

हम सड़क पर चलते समय और बसों या मेट्रो ट्रेन में यात्रा करते हुए मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं। इन सभी जगहों पर बहुत शोर होता है और हमें फ़ोन पर कुछ कम सुनाई देता है या हम ठीक से सुन नहीं पाते है। बेहतर सुनने के लिए हम वॉल्यूम को बड़ा देते है। ज्यादा तेज आवाज हमारी कानों को नुकसान पहुंचाती है। हम में से बहुत से लोग तेज आवाज में संगीत सुनते हैं या फिल्में देखते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हम अन्य लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले हेडफ़ोन से निकलने वाली आवाज़ सुन सकते हैं। यह फ़ोन के वॉल्यूम की अत्यधिक मात्रा का संकेत होता है। हम अच्छी तरह से जानते हैं कि लगातार तेज आवाज के संपर्क में आने से बहरापन हो सकता है।

हमारे कान तेज आवाज से हमारी रक्षा कैसे करते हैं?

हमारे कान में तेज आवाज से सुरक्षा करने के लिए एक प्राकृतिक रक्षा तंत्र है। हमारे कान की मांसपेशियां का संकुचन या अकड़न से आवाज अंदरूनी कान के हिस्से तक नहीं पहुंच पाती है जिससे  हमारे कान की नसों को नुकसान नहीं पहुंचता है। यह मांसपेशियों की अकड़न अस्थायी है, शोर के गायब हो जाने पर कान की मांसपेशियां धीमे से मान्य स्थिति में आ जाती हैं। वैज्ञानिक अध्ययन बताते हैं कि यदि शोर का संपर्क लंबे और नियमित समय तक रहता है, तो अकड़न स्थायी हो जाती है और कान से कम सुनाई देता है। यदि आप अपने मोबाइल फोन का उपयोग दिन में बिना रुके लगातार 2 घंटे से अधिक कर रहे हैं तो आपको मोबाइल फोन के कारण बहरापन होने की संभावना बहुत अधिक है।

मोबाइल फोन के तेज भाषण या संगीत के कारण होने वाले बहरेपन से बचने के कुछ तरीके

  • अपने मोबाइल फोन पर तेज आवाज में संगीत सुनने से बचे।
  • यदि आप किसी शोरगुल की जगह पर है कॉल लेने से बचें। क्युकी यदि आसपास का शोर अधिक होता है, तो हम वॉल्यूम बढ़ाते हैं जो कि हानिकारक है। अगर फोन कॉल जरूरी है तो आप कुछ मिनट के लिए शोर-शराबे वाली जगह से बाहर निकले और किसी शान्ति वाले स्थान पर चले जाए जहां ज्यादा शोरगुल न हो।
  • कम से कम वॉल्यूम में सुनने की कोशिश करे, अनावश्यक रूप से आवाज को तेज न करे । यदि आप बहुत यात्रा करते हैं और शोर-शराबे वाली जगहों पर हैं तो विशेष रूप से उपलब्ध शोर-रद्द (Noise cancelling) या शोर को कम करने वाले हेडफ़ोन का उपयोग करें। ये हेडफ़ोन महंगे हो सकते हैं, लेकिन मोबाइल फोन की अधिक ध्वनि  मात्रा से होने वाले कान की समस्या की संभावना को कम कर देंगे।
  • यदि आप ईयरबड्स (Earbuds) का उपयोग कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि बड्स या स्पीकर सही आकार के हैं। ढीले, छोटे या बड़े आकार के बड्स कान में ठीक से फिट नहीं होते जिससे हम आवाज को और तेज करते हैं जो हानिकारक है।

2. मोबाइल फ़ोन से पैदा होने वाली गर्मी के कारण होने वाला बहरापन

मोबाइल फोन के उपयोग के कारण गर्मी का प्रभाव
मोबाइल फोन के उपयोग के कारण गर्मी का प्रभाव

ऊपर एक थर्मल छवि है, लाल रंग के शेत्र गर्मी को दर्शाते है और नीले रंग का मतलब ठन्डे क्षेत्र है ।

अगर फोन का इस्तेमाल लंबे समय तक किया जा रहा हो तो हमारे मोबाइल फोन की बैटरी गर्म हो जाती है। यह गर्मी फोन के बॉडी के माध्यम से कान के संपर्क में आती है। वैज्ञानिकों का दावा है कि एक मोबाइल फोन के साथ लंबे समय तक संपर्क से सर का तापमान बढ़ सकता है जिससे सिरदर्द  और अन्य कान की समस्याएं हो सकती है।

ऊपर की छवि दिखाती है कि लंबे समय तक मोबाइल फोन के उपयोग के बाद सिर कैसे गरम होता है।

गरम मोबाइल फोन के कारण बहरापन से बचाव के लिए टिप्स

  • आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे मोबाइल एप्लिकेशन (Mobile Apps) को छोड़कर बाकी सभी एप्लिकेशन को बंद कर दें, क्युकी बैकग्राउंड में चलने वाले एप्लीकेशन बैटरी से पावर लेते है। बैकग्राउंड में चल रहे फोन एप्स को इस्तेमाल करने से बैटरी समाप्त होगी जिससे आपको बार-बार चार्ज करने की जरुरत पड़ेगी और उससे बैटरी और फोन  गर्म होंगे।
  • कई लोग अपने मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं जब चार्जिंग चल रही हो। बैटरी चार्ज करते समय फोन का उपयोग न करें, चार्जिंग सर्किट से चार्ज करते समय बैटरी का गर्म होना स्वाभाविक है।
  • बात करते समय फोन को अपने कान से थोड़ा दूर रखें, हो सके तो मोबाइल फ़ोन को अपने कान से छुए बिना बात करने की कोशिश करे |
  • अगर आपके कान गर्म मोबाइल फोन के साथ लंबे समय तक संपर्क में रहने के कारण चोटिल हो गए या सुन्न पड़ गए हैं, तो पिन्ना या नरम इयरलोब (Earlobe) में रक्त की आपूर्ति में सुधार करने के लिए थोड़ा मॉइस्चराइज़र (Moisturiser) ले और उस से अपने कानों की मालिश करे ।

क्या मोबाइल फ़ोन से निकलने वाली रेडिएशन या विकिरण के कारण बहरापन हो सकता है?

मोबाइल फोन के कारण रेडिएशन या विकिरण
मोबाइल फोन के कारण रेडिएशन या विकिरण

मोबाइल फ़ोन वायरलेस यन्त्र (Wireless Device) हैं, वे सेवा प्रदाताओं द्वारा विद्युत-चुम्बकीय (Electromagnetic) तरंगों या विकिरण के माध्यम से लगाए गए टावरों से भाषण संकेत प्राप्त करते हैं और भेजते हैं।

मोबाइल से निकलने वाले विकिरण के कारण स्वास्थ्य को होने वाले खतरों के बारे में लगातार बहस चल रही है। आज तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि मोबाइल विकिरण से कैंसर या ट्यूमर होता है। हालांकि मोबाइल फोन रेडिएशन या विकिरण की मात्रा बहुत कम है, यह हमारे कान को नुकसान नहीं पहुंचते। एक सुरक्षा के रूप में लोग विरोध कर रहे हैं और कंपनियों से अनुरोध कर रहे हैं कि वे स्कूलों, छत और पास में लगे मोबाइल टावरों को हटा दें।

जल्द नींद नहीं आना, मतली, चक्कर आना और टिनिटस  (Tinnitus) मोबाइल फोन के निरंतर उपयोग से जुड़े कुछ स्वास्थ्य मुद्दे हैं।

मुम्बई के जाने – माने ईएनटी सर्जन डॉ. दिव्या प्रभात ने निरंतर मोबाइल उपयोग करने के बुरे प्रभावों के बारे में बताया है और इस बात पर जोर दिया कि मोबाइल फोन के कारण बहरापन होने की बहुत ही उच्च संभावना  है।

मोबाइल फोन के कारण बहरापन पर प्रयोग

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ, यूएसए ने लोगों को 4 साल तक निगरानी में रखा था। 20 व्यक्तियों को 3 समूहों में विभाजित किया गया था, 4 साल बाद परिणाम निम्नानुसार दिए गए हैं।

  • समूह 1 में वे लोग शामिल थे जो दिन में 2 घंटे से अधिक समय तक मोबाइल फोन का उपयोग करते थे।
  • समूह 2 में वे लोग शामिल थे जो प्रति दिन 10 से 20 मिनट तक मोबाइल फोन का उपयोग करते थे।
  • समूह 3 में वे लोग शामिल थे जिन्होंने मोबाइल फोन का उपयोग बिल्कुल नहीं किया।

परिणामों ने स्पष्ट रूप से संकेत दिया कि समूह 1 के लोग जो दिन में 2 घंटे से अधिक समय तक मोबाइल फोन का उपयोग करते थे, उन्होंने समूह 2 और 3 के लोगों की तुलना में एक महत्वपूर्ण उच्च आवृत्ति वाले सेंसोरिनुरल या संवेदी बहरापन (High Frequency Sensorineural Hearing loss) विकसित किया था। यह साबित करता है कि मोबाइल फोन के कारण बहरापन हो सकता हैं।

मोबाइल फोन रेडिएशन या विकिरण के कारण बहरापन से बचने के सुझाव

  • हमें बच्चों को मोबाइल फ़ोन के उपयोग से रोकना चाहिए जब तक कि यह बहुत जरुरी न हो। वयस्कों की तुलना में बच्चों का मस्तिष्क दोगुना रेडिएशन या विकिरण अवशोषित करता है।
  • यदि आप अपने बच्चों को मोबाइल फोन पर गेम खेलने की अनुमति देते हैं, तो सुनिश्चित करें कि फोन “हवाई जहाज मोड” (Airplane Mode) में है।
  • मोबाइल फोन की स्क्रीन पर सिग्नल स्ट्रेंथ डिस्प्ले या संकेत शक्ति प्रदर्शन की जांच करें, कमजोर सिग्नल का मतलब है कि फोन अधिक रेडिएशन या विकिरण दे रहा है क्योंकि यह टावर से कनेक्ट करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। टॉवर से सिग्नल कम होने पर मोबाइल फोन अधिक गर्म भी होगा।
  • फोन को अपने सिर से जितना हो सके दूर रखें, ईयरबड, ब्लूटूथ का इस्तेमाल करें या स्पीकरफोन का इस्तेमाल करें।
  • अस अम अस (SMS) टेक्स्टिंग, कॉल करने से ज्यादा सुरक्षित है। यदि आप अस अम अस द्वारा अपना संदेश दे सकते हैं, तो कॉल करने से बचें।
  • रात को फोन को अपने तकिए के नीचे या अपने पास रखने से बचें। इसे सुरक्षित दूरी पर रखें।

टेक्नोलॉजी हमारे जीवन को आसान बनाती है, हमारी कुशलता को और ज्ञान को बढाती है। बेहतर तकनीक के इस लाभ के कुछ नकारात्मक प्रभाव भी हैं, हमें मोबाइल फोन के कारण बहरेपन से बचने के लिए एक सचेत प्रयास करना होगा कि जब तक यह बहुत जरुरी हो तो ही इसका उपयोग करें। जरूरत न होने के बावजूद भी हमेशा मोबाइल फ़ोन हमेशा हमारे साथ ही रहता है । हमें कार्यालय या घर में लैंड लाइन फोन साधन का उपयोग करने में संकोच नहीं करना चाहिए। हमारे कान का स्वास्थ्य सबसे जरुरी होता है। हमें अपने व्यक्तिगत स्वास्थ्य का चयन करने में संकोच नहीं करना चाहिए।