बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी के बारे में जानें

हम अपने बच्चों को लाड़ प्यार करते हैं और हम उनमें कुछ भाषण विकारों के कुछ संकेतों को अनदेखी करते हैं। सभी भाषण समस्याओं में से हकलाना सबसे आम है। कुछ माता-पिता मानते हैं कि उनके बच्चे धीरे-धीरे इन विकारों या स्पष्ट ना बात करने वाली समस्याओं को दूर कर देंगे। कुछ मामलों में, यह विकार उम्र के साथ – साथ दूर भी हो जाते है, लेकिन कुछ विकार प्रकृति में स्थायी हैं। हर माता-पिता को बच्चों में भाषण से जुड़े मिथकों और तथ्यों के बारे में पढ़ना चाहिए और अपने शंकाओं को दूर करें। यह संभव है कि आप भाषण विकारों के संकेतों की पुष्टि करने में असमर्थ हों। इसके बारे में पहले अपने बच्चे के बालवाड़ी शिक्षक के साथ चर्चा करें, या आपको एक स्पीच थैरेपिस्ट या भाषण चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। ऐसे विकारों का निरीक्षण करने के लिए उन्हें बेहतर प्रशिक्षण दिया जाता है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि भाषण समस्याओं की पुष्टि के बाद माता-पिता बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा के बारे में जानें और जल्द से जल्द शुरू करें। बच्चों के लिए भाषण चिकित्सा में देरी बच्चे के आत्मविश्वास को प्रभावित कर सकती है।

बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी के बारे में जानें blog feature image

विषय – सूची

बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा की आवश्यकता कब होती है?

बच्चों की स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा जल्द से जल्द शुरू होनी चाहिए। उपचार में देरी सामाजिक मुद्दों को जन्म दे सकती है। भाषण विकारों का पता लगाने का एक तरीका यह है कि एक ही आयु वर्ग के अन्य बच्चों के साथ बच्चे की तुलना करें। यदि आपका बच्चा विलंबित भाषण विकास के लक्षण दिखा रहा है तो उपेक्षा न करें। भाषण विकार वाले बच्चे अक्सर शर्मीले होते हैं और संचार कौशल की कमी होती है। जल्द से जल्द एक स्पीच थैरेपिस्ट से संपर्क करें। उपचार के कई सत्रों के लिए आस-पास के स्पीच थैरेपिस्ट या वाक्-चिकित्सा की खोज करें। भारत में रहने वाले माता-पिता, कृपया हमारी सहायता या हेल्पलाइन पर जाएं और अपनी आवश्यकताओं का उल्लेख करें। हम आपके क्षेत्र के सभी स्पीच थैरेपिस्ट की सूची मेल करेंगे। स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा घर पर भी संभव हो सकती है।

स्पीच थैरेपी या वाक्-चिकित्सा से बच्चो की किस तरह मदद होती है?

स्पीच थैरेपी या वाक्- चिकित्सा से बच्चे को सामान्य जीवन जीने में मदद मिलती है। संचार के लिए भाषा कौशल बहुत महत्वपूर्ण हैं।

स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा निम्नलिखित विकारों के उपचार में मदद करती है

  • आर्टिक्यूलेशन डिसऑर्डर (Articulation Disorder)

जब बच्चे को कुछ शब्दों के उच्चारण में कठिनाई होती है। शब्द स्पष्ट नहीं हैं और अक्सर दूसरे व्यक्ति उसे ठीक से समझ नहीं पाते है|

  • प्रवाह विकार (Fluency Disorder)

हकलाना सबसे आम प्रवाह विकार है। शब्दों को बार- बार दोहराने से भाषण के प्रवाह में रुकावट होती है।

  • आवाज विकार (Voice Disorder)

आवाज विकार वाले बच्चे वाक्य पूरा नहीं कर पाते है । इस मामले में, बच्चा बोलना शुरू कर देता है और फिर वाक्य को आधा-अधूरा और अस्पष्ट बोलता है।

स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा और किन् विकारों को दूर करती है?

अन्य प्रमुख विकारों का उपचार स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा द्वारा भी किया जाता है। जहां भी मौखिक संचार में सुधार की आवश्यकता है, वहां बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा एक जरुरी हिस्सा है|

श्रवण बाधित बालिका blog image
श्रवण बाधित बालिका
  • सुनने में परेशानी या बहरापन

बहरेपन से पीड़ित बच्चे बोलते नहीं हैं। चूंकि वे सुन नहीं सकते, वे भाषा सीखने और बोलने में असमर्थ हैं। स्पीच थैरेपिस्ट और ऑडियोलॉजिस्ट उनके कान और सुनने की क्षमता की जाँच करेंगे। यदि वे बहरेपन से पीड़ित हैं तो वे बहरेपन के मामले में सही उपाय बताएंगे। यदि यह संवेदी या सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस का मामला है, तो कान की मशीन या कोक्लियर इम्प्लांट इसका समाधान है।

कान की मशीन या कोक्लियर इंप्लांट की फिटिंग के बाद स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा अगला कदम है।

  • कोक्लेयर इंप्लांट वाले बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

कॉक्लियर इम्प्लांट या कान की मशीन का उपयोग करने वाले बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी को ऑडिटरी-वर्बल थेरेपी (Auditory Verbal Therapy or AVT) के रूप में भी जाना जाता है। बच्चों के लिए AVT थेरेपी उन्हें शब्दों को पहचानने के लिए दी जाती है। थेरेपी शब्दों को पहचानने और पढ़ाने में उपयोगी है। ज्यादातर जन्म से बहरे या कोक्लेयर इम्प्लांट मामलों वाले बच्चे को भाषण का बहुत कम या कोई पिछला ज्ञान नहीं होता है।

  • संज्ञानात्मक विकास के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

एक बच्चे में संज्ञानात्मक विकास (Cognitive Development) जन्म से लेकर लगभग 5 वर्ष की आयु तक होता है। बच्चे चीजों को याद रखना और साधारण समस्याओं को हल करना, कल्पना करना सीखते हैं। अगर संज्ञानात्मक विकास में कोई देरी हो तो स्पीच थैरेपिस्ट इसका निदान कर सकता है।

  • निगलने की बीमारी से परेशान बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

कुछ मामले में, बच्चे को भोजन निगलने में कठिनाई होती है (Swallowing Disorder), हमें एक स्पीच थैरेपिस्ट से परामर्श करना चाहिए। बच्चों में निगलने की समस्याओं को डिस्पैगिया (Dysphagia) के रूप में भी जाना जाता है। लक्षण धीमी गति से भोजन खाना और भोजन निगलने में कठिनाई है। बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा में मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए व्यायाम शामिल है। वयस्कों में भी डिस्पैगिया आम है।

  • स्वलीनता या ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

स्वलीनता या ऑटिज्म (Autism) मूल रूप से न्यूरो-डेवलपमेंटल डिसऑर्डर (Neuro-Developmental Disorder) है। स्वलीनता या ऑटिज्म से पीड़ित बच्चे को सामाजिक संपर्क में कठिनाई होती है। बच्चे को संचार में कठिनाई और दोहराए जाने वाले व्यवहार का एक पैटर्न भी है। ऑटिज्म एक भाषण विकार नहीं है। स्पीच थैरेपिस्ट समग्र संचार कौशल में सुधार करने में मदद करता है।

  • क्लेफ्ट पैलेट या क्लीफ्ट लिप वाले बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?
क्लेफ्ट लिप (Cleft Lip) और क्लेफ्ट पैलेट (Cleft Palate) blog image
क्लेफ्ट लिप (Cleft Lip) और क्लेफ्ट पैलेट (Cleft Palate)

क्लेफ्ट पैलेट (Cleft Palate) या क्लेफ्ट लिप (Cleft Lip) एक जन्म विकार है। क्लेफ्ट का अर्थ दो सतहों के बीच एक विभाजन होना है। एक फांक होंठ को दो भागों में बांटता है, इसी तरह एक फांक तालु को दो भागों में विभाजित करता है। क्लेफ्ट पैलेट के मामले में, तालू या मुंह की छत में छेद होता है। यह छिद्र नाक से जुड़ता है। यह असामान्यता भाषण और श्रवण समस्याओं का कारण बनती है। क्लेफ्ट पैलेट और क्लेफ्ट लिप को सर्जरी से ठीक किया जा सकता है। ऑपरेशन के बाद स्पीच थेरेपी जरूरी है। स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा शब्दों के निर्माण और उच्चारण में मदद करती है।

  • सेरेब्रल पाल्सी वाले बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

सेरेब्रल पाल्सी (Cerebral Palsy) या प्रमस्तिष्क अंगघात एक जन्म विकार है। यह मांसपेशियों के समन्वय या मोटर कार्यों (Motor functions) को प्रभावित करता है। सेरेब्रल पाल्सी वाले बच्चों में स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा मांसपेशियों को नियंत्रित करने में मदद करती है। थेरेपी मौखिक और चेहरे की मांसपेशियों को मजबूत करती है। इसका अभ्यास संचार कौशल को बेहतर बनाने में मदद करता है।

  • हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर वाले बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (Attention Deficit Hyperactivity Disorder) वाले बच्चों में भी सीखने की अक्षमता और व्यवहार संबंधी समस्याएं होती हैं। इसे ADHD  के नाम से भी जाना जाता है। स्पीच थैरेपिस्ट बच्चों की ऊर्जा को चैनलाइज़ करने के लिए व्यवहार चिकित्सा (Behavioural Therapy) का उपयोग करता है। आउटडोर खेल और अन्य खेल खेलना ऊर्जा को चैनलाइज़ करने का एक तरीका है। एक बाल चिकित्सक उन्हें आराम देगा और उन्हें शांत करेगा।

एक स्पीच थैरेपिस्ट बच्चे को बोलना सिखा रही है blog image
एक स्पीच थैरेपिस्ट बच्चे को बोलना सिखा रही है

विलंबित भाषण और भाषा विकास से ग्रसित बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा क्यों आवश्यक है?

अधिकांश भाषा और भाषण विकास उपरोक्त कारण विकारों से जुड़े हैं। कई बार  बोलने में देरी किसी भाषण विकार के कारण नहीं होती है। इसके कारण मनोवैज्ञानिक हो सकते हैं। बच्चे के साथ माता-पिता की बातचीत में कमी और उपेक्षा के परिणामस्वरूप विकास में देरी हो सकती है। बच्चे की भाषा कौशल विकसित करने में मदद करने के लिए माता-पिता को बच्चे के साथ बात करना, उनके सवालों का जवाब देना और मिल कर खेलना और गाना चाहिए।

बच्चो के लिए स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा में देरी न करे

स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा बच्चे की जिंदगी में काफी अंतर ला सकती है। स्पीच थैरेपिस्ट बच्चे को सामान्य रूप से बोलने के लिए आश्वस्त करता है। बच्चों के लिए शुरुआती हस्तक्षेप या स्पीच थेरेपी या वाक्- चिकित्सा बच्चे को एक सामान्य बच्चे की तरह रहने में मदद करती है।

स्पीच थैरेपिस्ट या स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट (Speech Language Pathologist) एक प्रशिक्षित पैरा मेडिकल प्रोफेशनल (Paramedical Professional) है। स्पीच थेरेपी या वाक्-चिकित्सा बच्चों को लिखित भाषा के मुद्दों और स्वयं को व्यक्त करने में होने वाली कठिनाई से निकलने में मदद करती है। परिणाम दिखाई देने से पहले बच्चे को स्पीच थेरेपी के कई सत्र लेने चाहिए।

2 thoughts on “बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी के बारे में जानें”

Leave a Comment