कॉकलियर इंप्लांट के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्नों के जवाब

इयरगुरु, कान स्वास्थ्य ब्लॉग ने कॉक्लियर इम्प्लांट्स पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों की एक सूची तैयार की है। हम नई जानकारी के साथ अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों को अपडेट करते रहेंगे।

कॉकलियर इंप्लांट क्या है?

कॉक्लियर इंप्लांट या कर्णावत प्रत्यारोपण एक छोटा उन्नत वैद्यक इलेक्ट्रॉनिक सुनने का उपकरण है जो आंतरिक कान के अंदर कोक्लीअ (कर्णावत) को ध्वनि संकेत पहुंचाकर हमें सुनने में मदद करता है।

कॉकलियर इंप्लांट के सभी हिस्सों को कान की मशीन की तरह बाहर नहीं पहना जाता है। रिसीवर (receiver) और इलेक्ट्रोड सरणी (electrode array) त्वचा के नीचे प्रत्यारोपित होते हैं, जबकि ध्वनि प्रोसेसर (sound processor) और ट्रांसमीटर (transmitter) त्वचा के ऊपर होते हैं और दिखाई देते हैं।

कॉकलियर इंप्लांट क्या करता है?

कॉकलियर इंप्लांट आंतरिक कान की तरह काम करता है और हमें सुनने में सक्षम बनाता है। कॉकलियर इंप्लांट के इलेक्ट्रोड कोक्लीअ में बालों की कोशिकाओं का कार्य करते हैं। कोक्लीअ की बालों की कोशिकाएँ हमारे सुनने के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती हैं।

मृत या क्षतिग्रस्त बालों की कोशिकाओं के कारण सेंसरिनुरल बहरापन से पीड़ित व्यक्ति ठीक से सुन नहीं पाता है। कॉकलियर इंप्लांट उन लोगों को फिर से सुनने में सक्षम बनाता है जिनके कोक्लीअ की बाल कोशिकाएं आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हैं।

कॉकलियर इंप्लांट इलेक्ट्रोड सरणी और रिसीवर कॉइल blog image
इलेक्ट्रोड सरणी और रिसीवर कॉइल। कॉकलियर इंप्लांट के आंतरिक भाग। छवि सौजन्य: freepik.com

कॉकलियर इंप्लांट के कौन से भाग हैं?

कॉकलियर इंप्लांट के भागों को मोटे तौर पर बाहरी रूप से दिखाई देने वाले घटक और आंतरिक प्रत्यारोपित घटकों में विभाजित किया जा सकता है।

कॉकलियर इंप्लांट के बाहरी भाग:

• माइक्रोफ़ोन – ध्वनि पकड़ता है और ध्वनि संकेतों को ध्वनि या भाषण संसाधक (speech processor) तक पहुंचाता है।
• ध्वनि प्रोसेसर – यह घटक ध्वनि संकेतों का विश्लेषण और प्रक्रिया करता है। ध्वनि संकेतों का प्रसंस्करण उपयोगकर्ता की सुनने की क्षमता के अनुसार होता है।
आम तौर पर, माइक्रोफ़ोन और प्रोसेसर एक ही डिब्बे में संलग्न होते हैं जो कान के पीछे भैठ जाते हैं।
• ट्रांसमीटर / ट्रांसमीटर कॉइल – ट्रांसमीटर कॉइल (transmitter coil) उन संकेतों को विकीर्ण करता है जो त्वचा के नीचे प्रत्यारोपित रिसीवर कॉइल (receiver coil) द्वारा पकड़ा जाता हैं।

कॉकलियर इंप्लांट के आंतरिक भाग:

• रिसीवर/रिसीवर कॉइल – प्रत्यारोपित रिसीवर कॉइल (receiver coil) त्वचा की सतह पर इसके ऊपर रखे ट्रांसमीटर कॉइल द्वारा विकिरणित संकेतों को पकड़ता है। इस प्रकार, बाहरी ट्रांसमीटर कॉइल द्वारा प्रेषित ध्वनि संकेतों को आंतरिक रिसीवर कॉइल पर निर्बाध रूप से पारित किया जाता है।
• इलेक्ट्रोड सरणी – कॉकलियर इंप्लांट रिसीवर कोइल इलेक्ट्रोड सारणी (electrode array) को आवृत्ति संकेत भेजते हैं। इलेक्ट्रोड को कोक्लीअ में उनके द्वारा ले जाने वाली आवृत्तियों के अनुसार रखा जाता है। उच्च आवृत्ति वाले इलैक्ट्रोड का स्थान कम आवृत्तियों वाले इलेक्ट्रोड के स्थान से भिन्न होता है।

कॉकलियर इंप्लांट के घटक blog image
कॉकलियर इंप्लांट के घटक। छवि सौजन्य: freepik.com

कॉकलियर इंप्लांट कैसे काम करता है?

कॉकलियर इंप्लांट का प्राथमिक कार्य कोक्लीअ को ध्वनि संकेत पहुंचाना है। एक बार जब संकेत कोक्लीअ तक पहुंच जाते हैं तो श्रवण तंत्रिका उन्हें मस्तिष्क तक ले जाती है। इन संकेतों की व्याख्या मस्तिष्क द्वारा भाषण/ध्वनि के रूप में की जाती है।

कॉकलियर इंप्लांट का काम करने का तरीका नीचे वर्णित है:

• माइक्रोफोन ध्वनि संकेतों को पकड़ता है और स्पीच प्रोसेसर को भेजता है।
• ध्वनि को विभिन्न आवृत्तियों के हिसाब से अलग-अलग समूहों में विभाजित किया जाता है और प्रोसेसर द्वारा डिजिटल रूप में परिवर्तित किया जाता है।
• डिजीटल ध्वनि संकेतों को ट्रांसमिटिंग कॉइल को भेजा जाता है।
• ट्रांसमिटिंग कॉइल सिग्नल को विकीर्ण/संचारण करता है।
• यह संकेत त्वचा के नीचे लगाए गए रिसीवर कॉइल द्वारा पकड़ा जाता है।
• रिसीवर कॉइल में आवृत्ति के अनुसार विभिन्न इलेक्ट्रोड को ध्वनि संकेत वितरित करने के लिए एक सर्किट भी होता है।
• प्रत्येक इलेक्ट्रोड में एक अलग आवृत्ति संकेत होता है और इस इलेक्ट्रोड को कोक्लीअ में रखा जाता है।
• कोक्लीअ खोखला और सर्पिल होता है जिसकी भीतरी सतह पर बाल कोशिकाएं होती हैं। कोक्लीअ का जिस भाग को उत्तेजित किया जाना है वह ध्वनि की आवृत्ति पर निर्भर करता है।
• प्रोसेसर ध्वनि संकेत इलेक्ट्रोड को भेजता है जो कोक्लीअ को उत्तेजित करता है।
• इस उत्तेजना को श्रवण तंत्रिका द्वारा उठाया जाता है और मस्तिष्क को भेजा जाता है।
• मस्तिष्क इन संकेतों की व्याख्या भाषण के रूप में करता है।

अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख कॉकलियर इंप्लांट क्या है? और कैसे काम करता हैं? पढ़ें।

कॉकलियर इंप्लांट हमें बेहतर सुनने में कैसे मदद करता है?

कॉकलियर इंप्लांट के इलेक्ट्रोड कोक्लीअ को उत्तेजित करते हैं। श्रवण तंत्रिका इस संकेत को भाषण के रूप में व्याख्या करने के लिए मस्तिष्क तक ले जाती है। कोक्लीअ में बालों की कोशिकाएं क्षतिग्रस्त होने पर इलेक्ट्रोड बालों की कोशिकाओं की भूमिका निभाते हैं।

यदि कोई व्यक्ति अच्छी तरह से सुनने में असमर्थ है क्योंकि बालों की कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो गई हैं और उत्तेजना उत्पन्न नहीं हो पाती है, तो कॉकलियर इंप्लांट बालों की कोशिकाओं की तरह काम करके बेहतर सुनने में मदद करता है।

कॉकलियर इंप्लांट के लिए कौन पात्र है?

निम्नलिखित मानदंड कॉकलियर इंप्लांट के लिए पात्रता तय करते हैं:

• गंभीर से गहन संवेदी बहरापन होना चाहिए।
• कान की मशीन लगा कर के भी ठीक से सुनाई नहीं देता है।
• कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी के समय रोगी की उम्र।
• रोगी जन्म से बहरा है या बाद में बहरा हो गया है। यदि बाद में तो किस उम्र में बहरापन हुआ?
• बच्चों के मामले में एक विश्वसनीय समर्थन प्रणाली यानी परिवार, दोस्तों और बधिरों के अनुकूल स्कूल की सुविधा होनी चाहिए।
• नियमित आधार पर ऑपरेशन के पश्चात की थेरेपी के लिए तैयार रहना चाहिए।
• ऐसी कोई मौजूदा चिकित्सा स्थिति नहीं होनी चाहिए जो कॉकलियर इंप्लांट ऑपरेशन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सके।

कॉकलियर इंप्लांट के प्रकार क्या हैं?

कॉकलियर इंप्लांट दिखने में अलग होते हैं लेकिन आंतरिक कान में ध्वनि संचारित करने का कार्य और सिद्धांत समान है। कॉकलियर इंप्लांट का आकार और आकार प्रौद्योगिकी के स्तर के आधार पर भिन्न हो सकता है।

एक लोकप्रिय प्रकार के कॉकलियर इंप्लांट कान के पीछे श्रवण यंत्र के आकार का होता है, लेकिन थोड़ा बड़ा होता है। माइक्रोफ़ोन और प्रोसेसर इस डिब्बे में फिट होते हैं। एक तार (cable) खोपड़ी से जुड़े ट्रांसमीटर कॉइल तक जाती है।

थोड़ा पुराना प्रकार का कॉकलियर इंप्लांट एक छोटे से बॉक्स के आकार में होता है। माइक्रोफ़ोन और स्पीच प्रोसेसर उसमें समाहित होते हैं। इसे बेल्ट या जेब से जोड़ा जा सकता है और एक लंबा तार खोपड़ी पर लगे ट्रांसमीटर की ओर जाता है।

एक अदृश्य कॉकलियर इंप्लांट का परीक्षण चल रहा है और परिणाम आशाजनक हैं।

अन्य प्रकार के प्रत्यारोपण योग्य उपकरण:

• बोन एंकर्ड हियरिंग एड (BAHA)
• मध्य कान का प्रत्यारोपण (Middle ear implant)

कॉक्लियर इंप्लांट सर्जरी कैसे की जाती है?

कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी का संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है:

• कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी सामान्य संज्ञाहरण के तहत होती है। कुल प्रक्रिया में लगभग 2 से 3 घंटे लगते हैं।
• ऑपरेशन करने वाली टीम सर्जरी से पहले एमआरआई (MRI) या सीटी स्कैन (CT scan) और अन्य रिपोर्ट को संदर्भित करती है।
• कॉकलियर इंप्लांट के आंतरिक भाग को सम्मिलित करने के लिए डॉक्टर कान के पीछे एक चीरा लगाता है। ऑपरेशन के बाद चीरा को बंद किया जाता है और पट्टी बांधी जाती है।
• रोगी को रोग निवृत्ति कमरे में स्थानांतरित कर दिया जाता है और एनेस्थीसिया का असर खत्म होने तक वह निगरानी में रहता है।
• रोगी ठीक महसूस कर रहा है और कोई जटिलता न होने पर रोगी को कुछ घंटों में छुट्टी दे दी जाती है।
• संक्रमण को रोकने के लिए रोगी को ऑपरेशन के बाद देखभाल और निर्धारित एंटीबायोटिक दवाओं के निर्देश दिए जाते हैं।

कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी में कितना समय लगता है?

कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी का औसत समय 2 से 3 घंटे है। हालांकि, प्रत्यारोपण डालने के लिए किया गया चीरा पूरी तरह से ठीक हो जाने के 2 से 3 सप्ताह बाद कॉकलियर इंप्लांट सक्रिय या चालू किया जाता है।

कॉकलियर इंप्लांट कितने सालों तक चलता है?

ज्यादातर, कॉकलियर इंप्लांट जीवन भर काम करता है।

नए विकास के अनुसार, निर्माता नए मॉडल जारी करते हैं। ज्यादातर मामलों में, नया स्पीच प्रोसेसर प्रत्यारोपित भागों के साथ काम करता है। हालांकि कॉकलियर इंप्लांट का विफल होना अनसुना नहीं है, लेकिन विफलता की संभावना बहुत कम होती है।

2018 में “बाल कॉकलियर इंप्लांट में विफलता दर और संशोधन सर्जरी के बाद सुनवाई के परिणाम” शीर्षक का एक शोध पत्र प्रकाशित किया गया था। यह बच्चों में कॉकलियर इंप्लांट के 579 मामलों पर एक अध्ययन था। इस अध्ययन से निम्नलिखित अवलोकन किए गए:
• 7% उपकरण विफलता दर
• 0.3% उपकरण संक्रमण दर
• 0.3% इलेक्ट्रोड एक्सट्रूज़न (Electrode extrusion) दर

कॉकलियर इंप्लांट के क्या फायदे हैं?

कॉकलियर इंप्लांट के फायदे इस प्रकार हैं:

• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता उन ध्वनियों को सुन सकते हैं जो कान की मशीन से संभव नहीं थीं। दरवाजे की घंटी या टेलीफोन की घंटी की आवाज स्पष्ट रूप से सुनाई देती है। कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता पदचापों की आवाज सुन सकते हैं और दरवाज़ा बंद होने की आवाज़ भी सुन सकते है।
• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता भाषण को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं। होंठ पढ़ने (lip reading) पर निर्भरता कम होती है।
• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता मानसिक रूप से तनावमुक्त महसूस करते हैं क्योंकि होंठ पढ़ना या लिप-रीड करने और बातचीत ठीक से न सुनाई देने से जुड़ा कोई तनाव नहीं है।
• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता फोन पर आसानी से बात सुन और कर सकते है।
• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता ध्वनि की मात्रा बढ़ाए बिना टेलीविजन देख सकते हैं।
• कॉकलियर इंप्लांट बच्चों के लिए वरदान है क्योंकि वे स्कूल में शिक्षक को सुन और उसका अनुसरण कर सकते हैं।

कॉकलियर इंप्लांट या कर्णावर्ती प्रत्यारोपण जोखिम

सुनने की शक्ति को वापस पाने के लाभों की तुलना में नुकसान या संबंधित जोखिम बहुत कम हैं।

• कॉकलियर इंप्लांट के काम न करने के बहुत कम मामले हैं। यदि कोई छोटी सी समस्या है, तो अतिरिक्त सर्जरी स्थिति को ठीक कर सकती है।
• ऑपरेशन के बाद संक्रमण हो सकता है। लेकिन संभावनाएं बहुत कम हैं और इसका सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है।
• कॉकलियर इंप्लांट के माध्यम से प्राप्त ध्वनि या भाषण सामान्य या प्राकृतिक नहीं लगती है। कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता जो पहले सुन सकते थे और बाद में अपनी सुनवाई खो चुके हैं, उन्होंने इसे “रोबोटिक” या “यंत्र द्वारा निर्मित” आवाज़ के रूप में वर्णित किया है।
हालांकि, अधिकांश उपयोगकर्ताओं को नई ध्वनि की आदत हो जाती है और मस्तिष्क द्वारा नई ध्वनि को पहचानने के बाद उन्हें अधिक अंतर नहीं लगता है।
• कॉकलियर इंप्लांट के आंतरिक प्रत्यारोपित भागों को बदला या अपग्रेड (upgrade) नहीं किया जा सकता है। कॉकलियर इंप्लांट बनाने वाली कंपनियां आमतौर पर बाहर लगे स्पीच प्रोसेसर को अपग्रेड करती हैं। नए स्पीच प्रोसेसर में प्रौद्योगिकी के नवीनतम विकास शामिल होता है और प्रत्यारोपित भागों के साथ संगत है ।
• कॉकलियर इंप्लांट कान की मशीन की तुलना में अधिक महंगा है, और क्षति से बचने के लिए अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता है।
• इसे बनाए रखना महंगा है क्योंकि बैटरी और मशीन के तार महंगे हैं।
• कॉकलियर इंप्लांट उपयोगकर्ता उसी कान में कान की मशीन का उपयोग नहीं कर सकते हैं।

कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए कॉकलियर इंप्लांट सर्जरी के तर्क-वितर्क लेख पढ़ें।

Leave a Comment