उच्च आवृत्ति बहरापन- लक्षण, कारण और उपचार

उच्च आवृत्ति बहरेपन का मतलब उच्च आवृत्ति रेंज में भाषण या ध्वनि सुनने के लिए हमारे कान की अक्षमता। ये आवृत्ति (फ्रीक्वेंसी) आमतौर पर 2000 हर्ट्ज (Hertz) से ऊपर होती हैं। इस प्रकार के नुकसान को उच्च आवृत्ति बहरापन या उच्च आवृत्ति श्रवण हानि (High frequency deafness or high frequency hearing loss) के रूप में जाना जाता है।

यह ज्यादातर बुज़ुर्गो को प्रभावित करता है। उच्च आवृत्ति बहरापन एक प्रकार का संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन है। उच्च आवृत्ति बहरापन और इसके लक्षणों और कारणों को बेहतर रूप से समझने के लिए, हमें अपने कानों की कार्यप्रणाली और आवृत्तियों को सुनने की क्षमता के बारे में थोड़ा जानना चाहिए।

उच्च आवृत्ति बहरापन- लक्षण, कारण और उपचार blog feature image

सामान्य मानव कान की आवृत्तियों को सुनने की सीमा क्या है?


एक नवजात बच्चा 20 हर्ट्ज से 20,000 हर्ट्ज तक की आवृत्तियों को सुन सकता है। यह सीमा उम्र बढ़ने के साथ कम हो जाती है। एक बच्चे की तुलना में एक वयस्क 14,000 हर्ट्ज के आस पास की सीमा में आवृत्तियों को सुन सकता है। अधिकतर, भाषण आवृत्तियाँ 125 से 8000 की सीमा के बीच होती हैं।

संगीत वाद्ययंत्र, घंटी और झंकार उच्च आवृत्तियों का उत्पादन करते हैं। हालांकि बढ़ती उम्र उच्च आवृत्ति बहरेपन का एक कारण है, लेकिन इसका एक मुख्य कारण लगातार शोर और तेज संगीत के संपर्क में आना भी है।

उच्च आवृत्ति बहरापन होने के लक्षण क्या हैं?

ऐसे शब्दों को सुनने में असमर्थता जिनमें “स”, “च”, “फ” जैसे ध्वनियाँ होती हैं या “श” ध्वनि का सिसकारने की तरह लगना उच्च आवृत्ति बहरापन होने का संकेत है।

ये सभी ध्वनियाँ 2000 हर्ट्ज से ऊपर की आवृत्तियों में हैं। आम तोर पर उच्च आवृत्ति श्रवण हानि का पता लगाना मुश्किल है, यह बहुत धीरे-धीरे आती है और प्रभावित व्यक्ति को यह नहीं पता होता है कि वह उच्च आवृत्तियों को सुनने में असमर्थ है।

नीचे कुछ ऐसे संकेत दिए गए हैं जो इस प्रकार की श्रवण हानि की शुरुआत होने की ओर इशारा करते हैं।

● महिलाओं और बच्चों से बात करने में कठिनाई

सामान्यतः पुरुषों का भाषण 2000 हर्ट्ज से नीचे होता है। अधिकांश महिलाओं और बच्चों का भाषण 2000 हर्ट्ज और उससे अधिक के क्षेत्र में है। एक पुरुष के साथ बातचीत करते समय आमतौर पर लोगों को अपने बहरेपन का आभास नहीं होता है।

हालाँकि महिलाओं और बच्चों के साथ बातचीत करने में उन्हें थोड़ी कठिनाई होगी। यदि कोई पेड़ और पौधों से घिरे शहर से दूर रहता है, तो वे पक्षियों के चहकने की आवाज़ स्पष्ट रूप से नहीं सुन सकेंगे।

● दरवाज़े की घंटी और टेलीफ़ोन की आवाज़ सुनने में कठिनाई

दरवाज़े की घंटी और टेलीफ़ोन की आवाज़ के स्वर तेज होते हैं। उच्च आवृत्ति बहरापन होने पर इन ध्वनियों को सुनने में असमर्थ होना बहुत आम है।

• संगीत में उच्च स्वर सुनने में असमर्थ

यदि आप एक नियमित संगीत श्रोता हैं, तो आप महसूस करेंगे कि आपका संगीत नीरस और फीका लग रहा है। नीरस बजने वाला संगीत स्टीरियो सिस्टम में किसी खराबी के कारण नहीं है, बल्कि उच्च स्वर सुनने में आपकी असमर्थता के कारण है।

ढोल का झांझ, घोंघे और सिंथेसाइज़र जैसे संगीत वाद्ययंत्र 14000 हर्ट्ज की सीमा में आवृत्तियों का उत्पादन करते हैं।

• शोर भरी जगह में वार्तालाप न समझ पाना

यदि आप किसी रेस्तरां या शोर वाले स्थान पर लोगों के समूह में हैं, तो आप बातचीत में कुछ शब्दों को सुनने में कठिनाई महसूस करेंगे। पृष्ठभूमि का शोर और तेज़ आवाज़ सुनने की हमारी अक्षमता हमारे लिए बातचीत करना मुश्किल बना देती है।

● बच्चे कक्षा में शिक्षकों को समझने में असमर्थ हो जाते हैं

यदि आपका बच्चा शिकायत करता है कि शिक्षक का भाषण स्पष्ट नहीं है और वह स्पष्ट रूप से सुनने में असमर्थ है तो एहतियात के तौर पर, एक ऑडियोलॉजिस्ट से परामर्श करें और बच्चे के कानों का परीक्षण करवाएं। हालांकि यह दुर्लभ है, लेकिन बच्चों में भी उच्च आवृत्ति श्रवण हानि की समस्या हो सकती है।

उच्च आवृत्ति बहरापन होने के कारण क्या हैं?

उच्च आवृत्ति सुनवाई हानि के पाँच मुख्य कारण हैं।

1.वृद्धावस्था या ढलती उम्र के कारण कान से कम सुनाई देना

वृद्धावस्था उच्च आवृत्ति बहरापन होने का सबसे महत्वपूर्ण कारण है, क्योंकि समय के साथ हमारे अंगों की कुशलता कम हो जाती हैं। उम्र से संबंधित सुनवाई हानि आम तौर पर 2000 हर्ट्ज से ऊपर की आवृत्तियों में होती है।

हमारे आंतरिक कान के हिस्से जैसे बाल कोशिकाओं या कोक्लीअ उच्च आवृत्तियों के प्रति कम संवेदनशील हो जाते हैं। हमारी सुनने की क्षमता कम होने के और भी कई कारण हैं।

2. जोरदार शोर या ध्वनि प्रदूषण के कारण उच्च आवृत्ति बहरापन

यातायात के शोर के कारण ध्वनि प्रदूषण जो उच्च आवृत्ति बहरेपन का एक कारण है blog image
यातायात के शोर के कारण ध्वनि प्रदूषण जो उच्च आवृत्ति बहरेपन का एक कारण है

हम नियमित रूप से तेज़ आवाज़ के संपर्क में रहते हैं। यातायात और निर्माण गतिविधि के कारण होने वाले शोर के परिणाम स्वरूप ध्वनि प्रदूषण में इजाफा हो रहा है। लगातार तेज़ आवाज़ के संपर्क में आने से हमारी श्रवण क्षमता प्रभावित होती है।

हेडफ़ोन के माध्यम से तेज़ संगीत सुनने से भी सुनने की शक्ति पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

कोक्लीअ में बाल कोशिकाओं के भौतिक स्थान के कारण, उच्च आवृत्ति के लिए ज़िम्मेदार बाल कोशिकाएं सबसे पहले प्रभावित होती हैं। कम और मध्य आवृत्तियों के लिए ज़िम्मेदार बाल कोशिकाओं बाद में प्रभावित होती हैं।

3. दवा के कारण विषाक्तता या ऑटोटॉक्सिसिटी के कारण उच्च आवृत्ति बहरापन

विषाक्तता या ऑटोटॉक्सिसिटी का अर्थ है विषाक्त (जहरीला) पदार्थ जो कानों के लिए नुकसान दायक हो सकता है। (ऑटो – कान के लिए ग्रीक भाषा का शब्द, टॉक्सिसिटी – विषाक्तता)

कुछ दवाएं ऑटोटॉक्सिक होती हैं और नाज़ुक बाल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती हैं। कुछ मामलों में, ये दवाइयाँ आवश्यक होती हैं क्योंकि वे जीवनरक्षक हो सकती हैं।

ऐसी स्थिति में ये दवाइयाँ लेना ज्यादा ज़रूरी है मगर इसका दुष्परिणाम उच्च आवृत्ति बहरापन है। ऑटोटॉक्सिसिटी के कारण हुई श्रवण हानि का स्थायी या अस्थायी होना उपचार की प्रणाली पर निर्भर करता है।

स्वयं अपना ही उपचार करने से बचें। एस्पिरिन जैसी सरल दवाओं का अत्यधिक उपयोग भी ऑटोटॉक्सिसिटी का कारण बन सकता है।

4. असंबंधित रोगों के कारण उच्च आवृत्ति बहरापन

कुछ बीमारियां, जो ज़रूरी नहीं कि कान से जुड़ी हों, उच्च आवृत्ति श्रवण हानि का कारण हो सकती हैं। बच्चों में क्रॉनिक ओटाइटिस मीडिया (मध्यकर्णशोथ) या बार-बार कान में संक्रमण, कण्ठमाला, मेनिन्जाइटिस और खसरा जैसी बीमारियां उच्च आवृत्ति बहरापन होने के सामान्य कारण हैं। 7 बीमारियां जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं के बारे में पढ़ें।

5. आनुवंशिकी (जिनेटिक) के कारण उच्च आवृत्ति बहरापन

यदि आप उच्च आवृत्ति श्रवण हानि के लक्षण देखते हैं, तो अपने परिवार के बीमारी से संबंधित इतिहास की जाँच करें। यदि आपके परिवार में संवेदी या सेंसेरिन्यूरल श्रवण हानि का इतिहास है, तो संभावना है कि आप आनुवंशिक रूप से श्रवण हानि के शिकार हैं। 35% से अधिक मामले आनुवंशिक बहरेपन के कारण होते हैं। जल्दी पता लगाने के लिए एक आवधिक ऑडीमेट्रिक जांच की सिफारिश की जाती है।

उच्च आवृत्ति श्रवण हानि के उपचार

उच्च आवृत्ति श्रवण हानि मूल रूप से एक संवेदी सुनवाई हानि है। आज तक इसका कोई इलाज नहीं है। मानव कान की नाज़ुक बाल कोशिकाओं को पुनर्जीवित नहीं किया जा सकता है।

हालांकि, स्थिति पूरी तरह से निराशावादी नहीं है। बाल कोशिकाओं के उत्थान हेतु समर्पित फार्मा कंपनियों ने उत्साहजनक प्रगति की है। कुछ कंपनियाँ मानव परीक्षण कर रही हैं जिन्होंने सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं। वह समय बहुत दूर नहीं जब बाल कोशिकाओं के पुनर्जनन का उपचार एक गोली खाने जितना सरल होगा।

उच्च आवृत्ति श्रवण हानि के लिए सबसे अच्छा उपाय क्या है?

वर्तमान में, उच्च आवृत्ति सुनवाई हानि के लिए कान की मशीन सबसे अच्छा और किफायती उपाय है। डिजिटल कान की मशीन के निर्माता ऐसी कान की मशीन को बनाते हैं जो विशेष रूप से उच्च आवृत्ति श्रवण हानि को संबोधित करते हैं।

उच्च आवृत्ति बहरेपन के लिये वेंट के साथ आईटीसी कान की मशीन blog image
उच्च आवृत्ति बहरेपन के लिये वेंट के साथ आईटीसी कान की मशीन

छोटी कान की मशीन एक वेंट (Vent) के माध्यम से कम रेंज की आवृत्तियों के उत्पादन को कम करती हैं और उच्च आवृत्तियों को बढ़ावा देती हैं।

वेंट एक छोटा सा छिद्र है जो कम रेंज की आवृत्तियों को बाहर निकलने में मदद करता है। यदि कान नहर बहुत संकरी है तो वेंटिंग (वेंट लगाने की प्रक्रिया) संभव नहीं है। यह कार्य कान मशीन के आकार पर निर्भर करती है।

ओपन फिट कान की मशीन (Open Fit hearing aid) विशेष रूप से उच्च आवृत्ति बहरेपन वाले लोगों के लिए बनाई गई है। कान में फिट होने वाले गुंबद (Dome) में वैज्ञानिक रूप से छिद्र किए गए हैं। छिद्र कम रेंज की आवृत्तियों को कान नहर से बाहर निकलने में मदद करता है।

ओपन फिट कान की मशीन के लिए डोम्स या ईयर टिप्स blog image
ओपन फिट कान की मशीन के लिए डोम्स या ईयर टिप्स

उच्च आवृत्ति श्रवण हानि के लिए एक RIC / RITE (नहर में रिसीवर / कान में रिसीवर) कान की मशीन भी उपयुक्त है। नियमित बीटीई का उपयोग एक वेंट किए गए कान के सांचे के साथ भी किया जाता है।

वैज्ञानिक और फार्मा कंपनियां संवेदी या सेंसेरिन्यूरल श्रवण हानि के समाधान खोजने के लिए लगातार काम कर रही हैं। जीन थेरेपी और स्टेम सेल तकनीक वैज्ञानिक अनुसंधान के अन्य क्षेत्र हैं।

सॉफ्टवेयर प्रोग्राम डिजिटल कान की मशीन के उपयोगकर्ता की व्यक्तिगत जरूरतों को पूरा कर सकता है। श्रवण हानि व बहरेपन में वृद्धि को रोकने के लिए हमें लक्षणों को जल्दी पहचानना चाहिए और चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए।

Leave a Comment