कान बंद होना आम बात है। जानिए इसके कारण और घरेलू उपाय

क्या कान बंद होना या कान में भारीपन महसूस होना आपको परेशान कर रहा है? और आपको पता नहीं कि कान बंद होने का कारण क्या है? कान बंद होना कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन यह असुविधाजनक है और बहुत परेशानी होती है। घबराएं नहीं, कान बंद होने के घरेलू उपाय जानने के लिए आगे पढ़ें।

कान में भारीपन और दर्द क्यों होता है?

लोग कान बंद होना को कान में भारीपन महसूस होना या कान में हवा भरना भी कहते हैं। कान बंद होने के कई कारण हैं, ज्यादातर मामलों में कान बंद होना अस्थायी है और यह कान का मैल जमा होने से, कान में संक्रमण या जुकाम से कान बंद होना जैसी किसी साधारण कारण से हो सकता है। कान बंद होने के कारणों को विस्तार से जानें।

कान बंद होने का कारण क्या है?

कान बंद होना या कान में भारीपन होने के 12 सामान्य कारण नीचे दिए गए हैं।

1. कान में पानी से कान बंद होना

कान में पानी से कान बंद होना आम है, यह अक्सर नहाने के बाद या तैरने के बाद होता है।

2. सर्दी से कान बंद होना या जुकाम से कान बंद होना

सर्दी से कान बंद होना या जुकाम से कान बंद होना आम बात है। गंभीर ठंड के कारण यूस्टेशियन ट्यूब में जमाव होने का परिणाम है।

3. मध्य कान में संक्रमण

मध्य कान के संक्रमण के कारण कान के परदे के पीछे पानी या तरल पदार्थ जमा हो जाते हैं, इससे कान में भारीपन महसूस होता है। इसे ओटिटिस मीडिया (Otitis media) के रूप में जाना जाता है।

4. बाहरी कान में संक्रमण या ओटिटिस एक्सटर्ना

तैराक के कान नलिका में पानी जमा होने से बाहरी कान में संक्रमण हो सकता है। जमा हुआ पानी जीवाणु के विकास को बढ़ावा देता है जिससे कान बंद हो जाते हैं। इसे ओटिटिस एक्सटर्ना (Otitis externa) के रूप में भी जाना जाता है।

5. शिरानाल या साइनस संक्रमण के कारण कान में भारीपन महसूस होना

सामान्य सर्दी, एलर्जी और साइनस संक्रमण जैसे मुद्दों से कान में जमाव से कान में भारीपन और दर्द हो सकता है।

6. कान में मैल के कारण कान बंद होना

कठोर कान का मैल कान नहर को अवरुद्ध करता है जिससे कान बंद होना और कान में भारीपन लगता है।

7. ऊंचाई के कारण कान में भारीपन महसूस होना

बहुत से लोगों को हवाई जहाज से यात्रा करते समय कान में भारीपन और दर्द होता है या उड़ान के बाद उनके कान बंद हो जाते हैं। आम तौर पर मध्य कान में दबाव और बाहर का दबाव लगभग बराबर होता है। यदि मध्य कान का दबाव समान नहीं है, तो हमें कान बंद होने का अहसास होता है।

8. यूस्टेशियन ट्यूब डिसफंक्शन (Eustachian Tube Dysfunction)

यूस्टेशियन ट्यूब में सूजन या जमाव के कारण रुकावट होती है और इससे कानों में भारीपन और दर्द होता है या कान बंद हो जाता है।

9. एलर्जी से कान कान बंद होना

कुछ मौसमी एलर्जी के कारण कानों में तरल पदार्थ का निर्माण होता है जिससे कान के परदे पर दबाव बढ़ता है। इस बढ़ते दबाव के कारण कान में भारीपन महसूस होना या कान बंद होने का एहसास होता है।

10. अकॉस्टिक न्युरोमा के कारण कान में भारीपन महसूस होना

अकॉस्टिक न्यूरोमा (Acoustic neuroma) एक सौम्य ट्यूमर है जो आंतरिक कान से मस्तिष्क तक जाने वाली ध्वनिक नसों पर मौजूद होता है। जब ट्यूमर बढ़ता है, तो यह दबाव डालता है और कान में भारीपन महसूस होता है, कभी-कभी यह कान में पानी के समान महसूस होता है।

11. चिंता के कारण कान में भारीपन महसूस होना

बहुत से लोगों ने महसूस किया है कि जब वे चिंतित या तनावग्रस्त होते हैं तो उनके कान बंद हो जाते हैं। हमारे कान बहुत संवेदनशील है और दबाव में मामूली बदलाव का उन पर असर पड़ता है। चिंता के कारण हृदय गति बढ़ती है और शरीर तनाव हार्मोन (stress hormones) छोड़ता है जिससे रक्तचाप बढ़ता है और कान में भारीपन महसूस होता है।

12. सूजे हुए लिम्फ नोड्स के कारण कान बंद होना

यदि लिम्फ नोड्स (lymph nodes) सूज गए हैं तो कान बंद होना संभव हैं। कान में संक्रमण, एलर्जी, या सामान्य सर्दी से पीड़ित होने पर कान के सामने या पीछे के लिम्फ नोड्स सूज जाते हैं जिसके कारण कान में भारीपन और दर्द होता है। कान दर्द के घरेलू उपाय जानिए

कान बंद होने के घरेलू उपाय

डॉक्टर से परामर्श करने से पहले कान बंद होने के घरेलू उपाय का प्रयास करना सामान्य मानवीय प्रवृत्ति है। तुरंत राहत के लिए नीचे बताए गए बंद कान खोलने के उपायों को आजमाएं।

  • निगलने की क्रिया, जम्हाई लेना या च्युइंग गम (chewing gum) चबाना एक अवरुद्ध यूस्टेशियन ट्यूब को खोल सकता हैं, ऐसा करने से आपको कुछ राहत मिलेगी।
बंद कानों को साफ करने के लिए वलसाल्वा मनौवर blog image
बंद कानों को साफ करने के लिए वलसाल्वा मनौवर।karlyukav द्वारा बनाई गई छवि – freepik.com
  • वलसाल्वा युद्धाभ्यास या वलसाल्वा मनौवर (Valsalva maneuver) तेजी से सांस छोड़ने की प्रक्रिया बंद कान खोलने के उपाय मे से एक है। यदि कान बंद होना ऊंचाई के कारण या उड़ान के कारण है तब यह क्रिया काम करेगी। यह कान में पानी से कान बंद होने का उपाय नहीं है।

दोनों नथुनों को बंद कर लें और फिर अपने होठों को बंद रखते हुए फूंक मारने का प्रयास करें। बंद कान को खोलने के लिए मध्य कान में दबाव बढ़ाने से कान में से हवा निकालने का तरीका है।

सावधान: ज्यादा जोर से न फूंकें, यह कान के परदे को प्रभावित कर सकता है। यह तकनीक उन लोगों के लिए उचित नहीं है जिन्हें उच्च रक्तचाप है या कोई दिल की बीमारी है।

  • कान में भारीपन महसूस हो रहा हो तो भाप लेने से बहुत आराम मिलता है। भाप से यूस्टेशियन ट्यूब में अगर कुछ जमाव हैं तो भाप से साफ हो जाता है।
  • निम्नलिखित तेलों की कुछ बूंदों को गर्म पानी में मिलाएं और भाप को अंदर लें। आपके कान बहुत जल्दी साफ हो जायेंगे।

नीलगिरी का तेल
लैवेंडर ऑयल
टी-ट्री ऑयल

बंद कानों के लिए भाप और खारे पानी से गरारे करना blog image
बंद कानों के लिए भाप और खारे पानी से गरारे करना। कान बंद होना आम बात है। जानिए इसके कारण और घरेलू उपाय
  • गर्म नमकीन पानी से गरारे करें और गर्म सूप या चाय पिएं। इससे बंद यूस्टेशियन ट्यूब खुल जाएगी।
  • गर्म सेक कान में भारीपन और दर्द कम करने का एक प्रभावी घरेलू उपाय है।
  • अगर कान के गंधक के कारण कान बंद हो गया है तो खनिज तेल या हाइड्रोजन पेरोक्साइड की बूंदों का उपयोग करें। कान साफ करने के घरेलू उपाय के लिए इस लेख को पढ़ें।
  • आप कान में भारीपन और दर्द को कम करने के लिए इन प्राकृतिक तेलों का उपयोग कर सकते हैं। तेल गुनगुना होना चाहिए, ज्यादा गर्म तेल कान में मत डालिये।

जैतून का तेल
सरसों के तेल
सिरका का प्रयोग करें।
कुटी हुई लहसुन को सरसों के तेल में मिलाकर मिश्रण को गर्म करें और छान लें। इसे ठंडा होने दें और कान में कुछ बूंदें डालें।

  • आप केमिस्ट से बंद कान खोलने की दवा खरीद सकते हैं। इन दवाओं को डीकॉन्गेस्टेंट (decongestants) कहा जाता है।
  • अगर कान में भारीपन और दर्द सर्दी-जुकाम की वजह है तो आपको सर्दी-जुकाम का इलाज करना चाहिए।

आपको डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

यदि कान में भारीपन महसूस होना कम नहीं होता है, या आपको निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए।

  • 101° से अधिक बुखार
  • कान में भारीपन और दर्द से कोई राहत नहीं मिली या बढ़ता जा रहा है
  • कान के स्त्राव में रक्त या मवाद है
  • चक्कर आना
  • बहरापन या कान में सीटी बजना

कान बंद होने के लक्षणों के आधार पर, आपका डॉक्टर इनमें से कोई एक कान बंद होने का इलाज आजमाएगा:

कान की सीरिंजिंग या कान की सिंचाई

अगर कान का मैल सख्त हो गया है और घरेलू तरीकों से इसे हटाना संभव नहीं है तो डॉक्टर एक सिरिंज का उपयोग करके पानी को जोर से कान में डालेंगे। यह कठोर मोम को ढीला कर देगा।

एलर्जी के कारण कान बंद होना

अगर कान बंद होना एलर्जी के कारण है तो डॉक्टर आपको एलर्जी-रोधी (एंटी एलर्जी) दवाएं लेने की सलाह देंगे, इन दवाओं को एंटीथिस्टेमाइंस (Antihistamines) कहते हैं। बेनाड्रिल इनमें से एक है।

कान वेंटिलेशन ट्यूब

यदि कान में भारीपन और दर्द बहुत गंभीर है, तो डॉक्टर कान में वेंटिलेशन ट्यूब (ventilation tube) या प्रेशर इक्वलाइजेशन ट्यूब (pressure equalisation tube) डालेंगे। यह छोटी ट्यूब को कान के परदे में डाला जाता है ताकि संचित द्रव को बाहर निकाला जा सकता है और मध्य कान और बाहर के बीच के दबाव को बराबर किया जा सके। यह प्रक्रिया कान में भारीपन महसूस होने की भावना को तुरंत कम कर देती है।

कान में भारीपन और दर्द के लिए एंटीबायोटिक्स

यदि संक्रमण के कारण कान में भारीपन है और बंद कान के लिए घरेलू उपाय काम नहीं कर रहे हैं तो कान के डॉक्टर से मिलिए। कान के संक्रमण को ठीक करने के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक्स की सलाह देंगे। जानिए कान में संक्रमण रोकने के उपाय

ज्यादातर मामलों में कान बंद होना अस्थायी होता है या कुछ दिनों तक रहता है और कान में भारीपन और दर्द के लिए उपरोक्त कान बंद होने के घरेलू उपाय काम करेंगे। अगर कान में भारीपन महसूस होना कम नहीं होता है तो ज्यादा वक्त इंतजार न करें और तुरंत डॉक्टर से मिलें।

Reference:
https://www.medicinenet.com/
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK262265/

Leave a Comment