7 बीमारियां जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं

बहरापन या कान से कम सुनाई देना बहुत आम समस्या है। हम बहरेपन के सामान्य कारणों से परिचित हैं। वृद्धावस्था और तेज आवाज के संपर्क में आने से संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरापन हो सकता है। हमारा ब्लॉग सामान्य बहरापन के कारण, लक्षण और कुछ अन्य कारणों की व्याख्या करता है। हम में से अधिकांश लोगो के लिए यह एक बड़े आश्चर्य की बात है पर सच बात यह है की, कुछ बीमारियां जो कान से संबंधित नहीं हैं, वे बीमारियां भी बहरेपन का कारण बन सकती हैं।

बीमारियां जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं blog feature image

विषय – सूची

आइए पढ़ते हैं उन बीमारियों के बारे में जिनसे कान से कम सुनाई देना या बहरापन हो सकता है। हमने 7 ऐसी बीमारियों जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं को शॉर्टलिस्ट किया है जो बहुत आम हैं।

  • मधुमेह या डायबिटीज (Diabetes)
  • दिल की बीमारी (Cardiac or Heart Disease)
  • गलग्रंथि की बीमारी (Thyroid Disease)
  • क्रोनिक किडनी रोग (Chronic Kidney Disease or CKD)
  • इंफ्लुएंजा (Influenza or Flu)
  • उच्च रक्तचाप (High blood pressure or Hypertension)
  • मोटापा (Obesity)

1. क्या मधुमेह या डायबिटीज की बीमारी बहरेपन का कारण बन सकती हैं?

यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है कि मधुमेह या डायबिटीज बहरेपन में भूमिका निभाती है। मधुमेह या डायबिटीज से पीड़ित लोगों में बहरेपन की संभावना 50% अधिक होती है। मधुमेह या डायबिटीज वाले लोग सामान्य रूप से कान की कमजोर नसें या संवेदी बहरेपन से पीड़ित होते हैं।

प्री डायबिटीज (Pre Diabetes)  के मरीजों में संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन से पीड़ित होने की संभावना 30% अधिक होती है। प्री डायबिटीज ऐसे लोग हैं जो डायबिटीज से पीड़ित नहीं हैं, बल्कि सीमा रेखा पर होते हैं।

  • कान से कम सुनाई देना और मधुमेह या डायबिटीज के बीच क्या संबंध है?

शोध में मधुमेह या डायबिटीज और कान की कमजोर नसें या संवेदी बहरेपन के बीच संबंध स्थापित किया गया है। क्रोनिक हाइपरग्लाइकेमिया या ब्लड शुगर (Blood Sugar) का निरंतर बार बार बढ़ना सबसे पहला कारण है।

ब्लड शुगर के बढ़ने के कारण माइक्रोएन्जिओपॅथी (Microangiopathy) होती है। माइक्रोएन्जिओपॅथी बहुत छोटी रक्त वाहिकाओं को तोड़ने का कारण बनता है। यह कुछ रक्त वाहिकाओं की दीवार को मोटा करने के परिणामस्वरूप भी होता है।

यह इन छोटे रक्त वाहिकाओं या धमनियों से जुड़े भागों में रक्त के प्रवाह को सीमित करता है। हमारा कान एक ऐसा अंग है जिसे छोटी रक्त वाहिकाओं द्वारा रक्त की आपूर्ति की जाती है। प्रतिबंधित रक्त की आपूर्ति कान की नसें कमजोर करती है और नाजुक बालों की कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाती है जिससे संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरापन होता है। जिस तरह डायबिटीज किडनी और आँखों को प्रभावित करती है, उसी तरह यह कानों को भी नुक्सान पहुंचाती है

2. क्या हृदय की बीमारी बहरेपन का कारण बन सकती हैं?

हृदय रोग बहरेपन का कारण हो सकता है blog image
हृदय रोग बहरेपन का कारण हो सकता है

हृदय रोग और बहरेपन के बीच एक बहुत मजबूत संबंध है। हृदय रोगों से पीड़ित लोगों में संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन के 54% अधिक मामले हैं।

  • कान से कम सुनाई देना और हृदय रोग के बीच क्या संबंध है?

हमारे अंदरुनी कान (Inner Ear) के कोक्लीअ (Cochlea) में नाजुक बाल कोशिकाएं होती हैं जो हमें सुनने में सक्षम बनाती हैं। कोक्लीअ को स्वस्थ रखने के लिए छोटी रक्त वाहिकाओं के माध्यम से ऑक्सीजन युक्त रक्त पहुंचाया जाता है। हृदय रोग से पीड़ित लोगों का हृदय कमजोर होता है जो पर्याप्त रक्त पंप नहीं कर सकता है।

हृदय में रक्त को पंप करने के लिए अधिक ताकत या अधिक परिश्रम करने की आवश्यकता होती है। यदि पंपिंग क्रिया पर्याप्त नहीं है, तो छोटे रक्त वाहिकाओं द्वारा जुड़े कोक्लीअ को पर्याप्त रक्त नहीं मिलता है। यह कान की नसें को कमजोर करता हैं और बालों की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है जो संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का कारण बनता है।

3. क्या थाइरोइड या गलग्रंथि की बीमारी बहरेपन का कारण बन सकती हैं?

हमारे शरीर में थाइरोइड ग्रंथि (Thyroid Gland) हार्मोन (Hormones) का उत्पादन करती है। ये हार्मोन चयापचय या मेटाबोलिज्म (Metabolism) और शरीर के अन्य कार्यों के लिए जिम्मेदार हैं। थाइरोइड या गलग्रंथि की बीमारी के मामले में, हार्मोन के उत्पादन में कमी होती है। हार्मोन के कम उत्पादन को हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) भी कहा जाता है। थाइरोइड या गलग्रंथि एक हार्मोन को छोड़ता है जिसे थायरोक्सिन (Thyroxin) के नाम से जाना जाता है। थायरोक्सिन कोक्लीअ के विकास के लिए जिम्मेदार है।

  • कान से कम सुनाई देना और थाइरोइड या गलग्रंथि रोग के बीच क्या संबंध है?

थायरोक्सिन विकास चरण के दौरान और बाद में भी कोक्लीअर को बनाए रखने में मदद करता है। एक प्रयोग में, हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित 30 लोगो पर थायरोक्सिन का उपचार किया गया। 6 महीने के अंत में, पूर्व और बाद उपचार ऑडियोग्राम (Audiogram) द्वारा पुष्टि की गई तो सुनवाई में 48% सुधार हुआ था। थायरोक्सिन शोर से होने वाली हानि से बचाने में भी मदद करता है। हाइपोथायरायडिज्म (हार्मोन का उत्पादन कम), साथ ही हाइपरथायरायडिज्म (हार्मोन का अत्यधिक उत्पादन) संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का कारण बनता है |

थाइरोइड या गलग्रंथि रोग से पीड़ित लोगों के लिए एक स्वस्थ आहार महत्वपूर्ण है। आयोडीन, विटामिन‘ए’और‘डी’और सेलेनियम (Selenium) और आयरन जैसे खनिज एक स्वस्थ थाइरोइड या गलग्रंथि को बनाए रखने में मदद करते हैं। आश्चर्यजनक खाद्य पदार्थों के बारे में जाने जिनमें ये शामिल हैं और उन्हें अपने आहार में शामिल करें।

4. क्या गुर्दे की बीमारी या क्रोनिक किडनी की बीमारी बहरेपन का कारण बन सकती हैं?

यह माना जाता है कि गुर्दे की बीमारी या क्रोनिक किडनी रोग (Chronic Kidney Disease or CKD) संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का कारण बनता है। एक अध्ययन में पाया गया कि क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित लोगों में कान से कम सुनाई देने का 54% अधिक खतरा होता है। इसका कारण यह है कि उसकी संरचना और कुछ-कुछ कार्यों के मामले में किडनी हमारे आंतरिक कान के समान हैं।

  • कान से कम सुनाई देना और गुर्दे की बीमारी या क्रोनिक किडनी रोग के बीच क्या संबंध है?

किडनी शरीर में विषाक्त पदार्थों (अपशिष्ट पदार्थ) को साफ करती है। किडनी सामान्य रूप से काम नहीं कर रही हैं तो शरीर में विषाक्त पदार्थ या टॉक्सिन इकट्ठा हो जाते हैं।

ये विषाक्त पदार्थ अंदरुनी कान में संवेदनशील नसों को नुकसान पहुंचाते हैं। किडनी में टिश्यू (ऊतक) की संरचना आंतरिक कान के समान होती है। किडनी के टिश्यू को नुकसान पहुंचाने वाले तत्व भी कान के टिश्यू को नुकसान पहुंचाते हैं। इलेक्ट्रोलाइट (Electrolyte) असंतुलन भी संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का एक कारण है। CKD के उपचार के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ दवाएं कान के लिए हानिकारक या ओटोटॉक्सिक (Ototoxic) हैं।

5. क्या इन्फ्लुएंजा या फ़्लू के कारण कान की समस्या हो सकती है?

फ्लू बहरेपन का कारण हो सकता है blog image
फ्लू बहरेपन का कारण हो सकता है

सर्दियों के दौरान बहती हुई नाक और लोगों का छींकना एक आम दृश्य है। अगर हम शुरूआती लक्षणों पर ध्यान नहीं देते तो यह इन्फ्लुएंजा या फ़्लू का कारण बन सकता है। इन्फ्लुएंजा, जिसे आमतौर पर फ्लू के रूप में जाना जाता है, इसके कारण कान के रोग भी हो सकता है।

फ्लू, आखिरकार, एक वायरस है जो साइनस (Sinus) और कान को प्रभावित करता है। अधिकांश मामलों में, फ्लू और कान का बहना प्रवाहकीय बहरेपन का कारण बनता है जो प्रतिवर्ती है। यदि समय पर और उचित इलाज न किया जाए तो बहरापन स्थायी हो सकता है।

  • कान से कम सुनाई देना और इन्फ्लुएंजा के बीच क्या संबंध है?

फ्लू के शुरुआती लक्षण नाक से बहना, सिर दर्द, गले में खराश, खांसी और बुखार होते है । फ्लू मध्य कान और कंबुकर्णी नली या यूस्टाचियन ट्यूब (Eustachian Tube)  में तरल पदार्थ के निर्माण और जमाव का कारण बनता है। यह सुनने की क्षमता को कम करता है। मध्य कान में  जमाव के कारण ध्वनि तरंगें आंतरिक कान तक नहीं पहुंच पाती हैं। उचित उपचार संक्रमण को साफ करता है. कान बहने का इलाज और कान की समस्या को ठीक कर सकता है। इस अस्थायी बहरेपन को प्रवाहकीय श्रवण हानि या कंडक्टिव बहरापन के रूप में भी जाना जाता है।

ऐसे मामले भी होते हैं जहां संक्रमण बहुत गंभीर है और कान के अंदरूनी हिस्सों को प्रभावित करता है। नाजुक नसें संक्रमण से प्रभावित हो सकती हैं। नसों को जो नुक्सान पहुंचता है वही संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरापन का कारण बनता है। इस प्रकार की कान की समस्या स्थायी है। यदि आपको कान से कम सुनाई देता है और यह एक या दो दिन में ठीक नहीं हो रहा है तो आपको अपने डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता है। कान में संक्रमण से बचाव के तरीके के बारे में आप ब्लॉग में बताई गई सावधानियों का पालन कर सकते हैं।

6. क्या उच्च रक्तचाप की बीमारी बहरेपन का कारण बन सकती है?

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) से बहरापन होता है। जैसे-जैसे रक्तचाप बढ़ता है, सुनने की क्षमता कम होती जाती है। प्रयोगों से पता चला है कि रक्तचाप को कम करने से सुनने की क्षमता में सुधार होता है।

  • कान से कम सुनाई देना और उच्च रक्तचाप के बीच क्या संबंध है?

बहरापन और उच्च रक्तचाप के बीच के संबंध को समझना बहुत आसान है। उच्च रक्तचाप, रक्त ले जाने वाली वाहिकाओं की दीवारों पर अतिरिक्त दबाव डालता है। यह अतिरिक्त दबाव रक्त वाहिकाओं या धमनियों को नुकसान पहुंचाता है। छोटी धमनियां हमारे कान के नाजुक हिस्से में ताजा ऑक्सीजन युक्त रक्त ले जाती है और रक्त की आपूर्ति करती हैं। इन धमनियों का नुकसान रक्त की आपूर्ति में कमी का कारण बन सकता है जो संवेदी या सेंसोरिनुरल  बहरेपन का कारण बनता है। रक्तचाप को नियंत्रण में रखने के लिए मानसिक तनाव कम करना महत्वपूर्ण है।

7. क्या मोटापा बहरेपन का कारण बन सकता है?

मोटापे से पीड़ित व्यक्ति blog image
मोटापे से पीड़ित व्यक्ति

हालांकि एक स्वस्थ जीवन शैली के बारे में जागरूकता फैल रही है, फिर भी मोटापा एक बड़ी समस्या है। इन दिनों की जीवनशैली मोटापे का मुख्य कारण है। रिमोट कंट्रोल, एप्स, ऑटोमेशन और फास्ट फूड ने जीवन को आसान बना दिया है, लेकिन इसने हमारी शारीरिक गतिविधियों को भी कम कर दिया है। मोटापा खराब स्वास्थ्य का संकेत है और इससे कान से कम सुनाई दे सकता है।

  • कान से कम सुनाई देना और मोटापे के बीच क्या संबंध है?

मोटापे का सीधा संबंध कान के रोग से नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से बहरेपन की संभावना को बढ़ा सकता है। हृदय शरीर के प्रत्येक अंग को रक्त पंप करता है। छोटी धमनियों और केशिकाओं के माध्यम से रक्त हमारे आंतरिक कान तक पहुँचता है। एक मोटे व्यक्ति में, हृदय को अंग के सबसे छोटे हिस्से तक रक्त पहुंचाने के लिए अधिक पंप करना पड़ता है।

समय के साथ, हृदय को रक्त पंप करना मुश्किल हो जाता है और धीरे-धीरे छोटे अंगों में रक्त की आपूर्ति में कमी होती है। इस मामले में, आंतरिक कान में रक्त की कम आपूर्ति से कान की नसें कमजोर हो जाती हैं और बालों की कोशिकाएं मर जाती हैं। यह सक्रिय बालों की कोशिकाओं की कुल संख्या को कम करता है और कान की कमजोर नसों का कारण बनता है।

मोटापा हृदय रोग और मधुमेह या डायबिटीज के लिए जिम्मेदार है जो सुनवाई को और नुकसान पहुंचाता है।

कान रोग के लक्षण को पहचानें, बहरापन का इलाज करें। एक स्वस्थ जीवन शैली बहुत महत्वपूर्ण है। अपने शरीर की देखभाल के लिए समय निकालें।

7 बीमारियां जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं- Infographic
7 बीमारियां जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं Info-graphic

Leave a Comment