सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं? कुछ सरल सुझाव जानिए

हममें से ज्यादातर लोग जानते हैं कि तेज आवाज़ कितनी असुविधाजनक होती है। लेकिन हममें से कई लोग ध्वनि प्रदूषण के दुष्प्रभावों से अवगत हैं? ध्वनि प्रदूषण के गंभीर दुष्परिणामों में से एक बहरापन का होना है।

आज के लोगों की स्वस्थ रहने से संबंधित जागरूकता में बढ़ोत्तरी हुई है। मगर फिर भी कान का स्वास्थ्य सबसे उपेक्षित क्षेत्रों में से एक है और ज्यादातर लोगों को इस विषय की सही जानकारी नहीं है।

हमें ध्वनि प्रदूषण (Noise Pollution) के हानिकारक प्रभावों को समझना होगा। कान से कम सुनाई देना और बहरेपन की समस्या से बचने के लिए यह अति आवश्यक है। इनसे कैसे बचा जाए और सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं जैसे प्रश्नों का उत्तर पाने के लिए आगे पढ़ते जाएं। कान का बहरापन दूर करने के उपाय भी विस्तार से समझाए गए हैं।

सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं? Blog feature image

तेज आवाज़ और बहरापन – संक्षिप्त विवरण

किसी भी प्रकार की तेज आवाज़ के लगातार संपर्क में रहना हानिकारक है। यह काम के माहौल के कारण या ऊंची आवाज़ में संगीत सुनने के कारण हो सकता है। इससे स्थायी बहरापन होने की बहुत ज्यादा संभावनाएं हैं।

इस प्रकार के बहरेपन को अर्जित श्रवण हानि (Acquired Hearing loss) के नाम से भी जाना जाता है। वर्कशॉप और निर्माण स्थलों पर काम करने वाले लोगों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे अपनी कानों की सुरक्षा करें और सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं जैसे विषय पर विचार करें।

तेज आवाज़ के कारण होने वाला बहरापन आमतौर पर उच्च आवृत्ति वाली श्रवण हानि (High Frequency Hearing Loss) होती है। तेज आवाज़ (दरवाजा या टेलीफोन की घंटी, तेज़ संगीत) के कारण कान की सुनने की शक्ति घट जाती है। उच्च आवृत्ति श्रवण हानि मूल रूप से एक सेन्सोरीन्यूरल (Sensorineural Hearing loss) या संवेदी बहरापन है।

हम अपने आसपास के शोर को तो रोक नहीं सकते हैं, लेकिन हम अपने कानों की सुरक्षा के लिए कुछ सावधानियाँ ज़रूर बरत सकते हैं। नीचे कुछ सरल कान-स्वास्थ्य संबंधी युक्तियाँ व कान का बहरापन दूर करने के उपाय दिए गए हैं।

इयरप्लग या कान सुरक्षा उपकरण

ऑर्डर पर बनवाये हुए इयरप्लग blog image
ऑर्डर पर बनवाये हुए इयरप्लग

अनुकूलित या ऑर्डर पर बनवाये हुए इयरप्लग का उपयोग

अनुकूलित (ऑर्डर पर बनाया हुआ) कान सुरक्षा उपकरण या ईपीडी (EPD or Ear Protection Devices) कान की मशीन के निर्माताओं के पास उपलब्ध हैं। इन कंपनियों के पास उत्पादन प्रयोगशालाएं होती हैं जो उपकरणों को आपके कानों पर फिट करने के लिए अनुकूलित ईपीडी बनाती हैं।

एक टेकनीशियन कान का छाप लेता है। यह क्रिया एक पेस्ट (तरल गारा) को कान में इंजेक्ट करके की जाती है जो कुछ मिनटों के बाद जम जाता है। यह ठोस छाप आपके कानों के आकार की होती है। लैबऑरेटरी टेकनीशियन उसी आकार और आयामों का एक इयरप्लग बनाता है। इसके पीछे विचार यह है कि इयरप्लग कानों में ठीक से फिट होना चाहिए।

आप अपने कानों तक पहुंचने वाले शोर के घटने या कमी के स्तर का चयन कर सकते हैं। शोर या ध्वनि स्तर का मापन डेसीबल (Decibel) या डीबी (Db.) में होता है।

भारी धातु वर्कशॉप, गोदी या बंदरगाह, निर्माण स्थलों जैसे क्षेत्रों में शोर का स्तर अधिक होता है। ऐसे लोगों को कान का बहरापन दूर करने के उपाय बताए जाने चाहिए। इन क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को शोर स्तर में उच्च क्षीणन (Attenuation) या उच्च कटौती के हिसाब से ईपीडी की मांग करनी चाहिए।

स्टेंडर्ड इयरप्लग – मानक कर्ण सुरक्षा उपकरण का उपयोग

स्टेंडर्ड पॉलीयुरेथिन इयरप्लग्स – कर्ण सुरक्षा उपकरण blog image
स्टेंडर्ड पॉलीयुरेथिन इयरप्लग्स – कर्ण सुरक्षा उपकरण

यदि आवश्यकता एकल उपयोग के लिए हो, तो पॉलीयुरेथेन फोम से बने मानक (Standard) इयरप्लग (Earplugs) उपयोगी होते हैं, वे उचित मूल्य के होते हैं और आपके स्थानीय दवाइयों की दुकान पर उपलब्ध हैं या आप उन्हें ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

यदि आप एक संगीत प्रशंसक हैं जिसे यह चिंता रहती है कि अपनी सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं तो आपको लाइव संगीत कार्यक्रम में भाग लेने से पहले इन इयरप्लग को खरीदना चाहिए। इयरप्लग्स एक फॉर्मूला कार रेस के लिए भी जरूरी है। इयरप्लग उपयोग करने में आसान हैं। ये लाइव प्रदर्शन के रोमांच और उत्साह को भंग किए बिना सुरक्षा प्रदान करते हैं।

रॉक कॉन्सर्ट में ध्वनि का स्तर 120 डेसिबल से ऊपर होता है। फॉर्मूला 1 कार रेसिंग ट्रैक के करीब शोर स्तर 140 डेसिबल तक पहुंचता है। 85 डेसीबल से अधिक ध्वनि के स्तर पर लंबे समय तक संपर्क कान के लिए खतरनाक है। ऐसी स्थिति में इयरप्लग का इस्तेमाल करना कान का बहरापन दूर करने के उपाय में से अच्छा विकल्प है।

कितनी उच्च ध्वनि अत्यधिक उच्च की श्रेणी में आती है?

नीचे दिया गया इन्फोग्राफिक रोजमर्रा के जीवन में काम आने वाली वस्तुओं के शोर के स्तर और स्थितियों का एक विवरण प्रदान करेगा।

कुछ दैनिक उपकरणों के ध्वनि स्तर blog image
कुछ दैनिक उपकरणों के ध्वनि स्तर

पॉलीयुरेथेन इयरप्लग (Polyurethane Earplugs) की सामग्री नरम और संपीड़ित होती है  और उन्हें दबाकर छोटा कर सकते हैं। इसे अपनी उंगलियों के बीच दबाएं और एक छोटी सी गेंद का आकार दें। इसे अपनी उंगलियों के बीच रखें और इसे अपने कानों में डालें। कुछ समय के लिए इसे जगह पर पकडे रखे, यह धीरे-धीरे विस्तार करेगा और अपने मूल आकार में आने की कोशिश करेगा। विस्तार करके, यह आपके कान नली का आकार लेगा।

विस्तार के बाद यह एक रुकावट बनाता है और आपके कानों में जाने वाली ध्वनि को कम करने के लिए एक फिल्टर या छन्नी के रूप में काम करता है।

सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं? इन सरल सुझावों का पालन करें।

  • सुनने की आदत में बदलाव

कुछ सालों पहले, पर्सनल म्यूजिक डिवाइस (खुद के पसंदीदा संगीत सुनाने वाले उपकरण) बहुत लोकप्रिय थे। वॉकमैन (Walkman) के शुरुआती दिनों से लेकर वर्तमान कॉम्पैक्ट आईपॉड (IPod) या डिजिटल पर्सनल म्यूजिक डिवाइस के लोकप्रियता का कारण था की उनमे निजी प्लेलिस्ट (Playlist) को जोड़ने की सुविधा और हर जगह ले जाने की सुविधा थी। चूंकि ये उपकरण थोड़े महंगे थे इसलिए वे सभी के लिए सुलभ नहीं थे। इन दिनों सभी मोबाइल फोन में एक रेडियो होता है या हम अपने पसंदीदा गीतों को सहेज सकते हैं।

  • सुनने की आदत में वर्तमान प्रवृत्ति

बिल्ट-इन रेडियो के साथ मोबाइल फ़ोन बहुत आम हैं। इसने व्यक्तिगत संगीत उपकरणों के परिदृश्य को बदल दिया है। रेडियो के अलावा, मोबाइल फ़ोन में आपके सैकड़ों पसंदीदा गानों को सहेजने की क्षमता है। लोगों को अपने कानों में हेडफ़ोन या इयरफ़ोन डाले देखना एक आम दृश्य है।

आपके कानों की सुरक्षा और कान का बहरापन दूर करने के उपाय

लगातार ऊँची आवाज़ में संगीत सुनने से नुकसान होता है। एहतियात बरतें और आवाज़ की मात्रा कम रखें। एक उपाय यह है कि वॉल्यूम सेटिंग को ऐसे रखना है कि यह आसपास की आवाज़ को पूरी तरह से ब्लॉक न करे। चलते समय या सड़क पार करते समय हमारे आसपास के शोर को सुनना बहुत महत्वपूर्ण है। हम अक्सर होने वाली दुर्घटनाओं के बारे में पढ़ते हैं क्योंकि हेडफ़ोन पहने हुए लोग वाहनों का हॉर्न नहीं सुन पाते हैं।

  • क्या आपने 60:60 नियम के बारे में सुना है?

यदि आप एक संगीत प्रेमी हैं और संगीत सुने बिना नहीं रह सकते, तो आपको 60:60 नियम का पालन करना चाहिए। जिन्हें यह लगता है कि सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं व अपना शौक भी पूरा कर पाएं उन्हें खास तौर पर इसे अपनाना चाहिए।

नियम बहुत सरल है। आपको कुल उपलब्ध वॉल्यूम सेटिंग मात्रा के 60% से अधिक मात्रा नहीं रखना चाहिए। और एक बार में 60 मिनट से अधिक समय तक लगातार संगीत न सुनें।

60 मिनट के सुनने के सत्र के बाद अपने निजी संगीत उपकरण को बंद कर दें। अपने कानों को आराम करने दें, आपके कान आराम की मुद्रा में खुश होंगे। संभावना है कि अधिकांश क्षति जो स्थायी हो सकती थी, कुछ हद तक कम होगी।

अपनी डेस्क पर या किसी खास काम पर लगातार काम करना थका देने वाला होता है। छोटा ब्रेक लेने के बाद क्या आप अच्छा महसूस करते हैं? ठीक इसी प्रकार, आपके कान भी तरोताज़ा महसूस करेंगे। आप इसे ईयर डिटॉक्स (Ear Detox) पीरियड मतलब कानों के आराम का समय कह सकते हैं।

  • यह कार है संगीत सभागार नहीं।
कार में उच्च शक्ति वाले एम्पलीफायर और विशाल स्पीकर लगाकर संगीत सुनना blog image
कार में उच्च शक्ति वाले एम्पलीफायर और विशाल स्पीकर लगाकर संगीत सुनना

कुछ लोग अपनी कारों में उच्च शक्ति (High Power) वाले एम्पलीफायर और विशाल स्पीकर लगाना पसंद करते हैं। कार के डिक्की में पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक्स और बड़े वूफ़र्स स्पीकर लगा दिये जाते है। वूफ़र्स वे स्पीकर होते हैं जो कम-आवृत्ति वाले थंपिंग साउंड (धम धम की आवाज़) का उत्पादन करते हैं।

कार जैसे छोटे बंद स्थान में सुनने के लिए उच्च शक्ति (High Power) वाले एम्पलीफायर से पैदा हुई आवाज़ आवश्यकता से अधिक होती है। एक छोटे से बंद स्थान में तेज़ संगीत सुनना कानों के लिए खतरनाक होता है और आपकी श्रवण क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है।

एक कार के लिए उच्च शक्ति वाला स्टीरियो सिस्टम उचित नहीं है। यदि आप दूसरों के साथ यात्रा कर रहे हैं और स्थिति से बच नहीं सकते तो क्षति को कम करने के लिए इयरप्लग का उपयोग करें। अपनी सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं इस विषय पर आपको खुद ही सोचना चाहिए और दूसरे लोगों को भी जागरूक बनाने में सहयोग करना चाहिए।

  • अपने कानों को डिटॉक्स करें

अगर आपको और आपके शरीर को छुट्टी की ज़रूरत है, तो आपके कानों को क्यों नहीं? आपको रॉक कॉन्सर्ट, कार रेस या लाउड म्यूज़िक (ऊँची आवाज़ वाला संगीत) वाली पार्टी में भाग लेने के बाद अपने कानों को विराम देना चाहिए।

यह अत्यधिक अनुशंसित है कि जोर से संगीत के 2 से 3 घंटे के सत्र में भाग लेने के बाद आपके कानों को 12 घंटे तक का आराम मिलना चाहिए। एक बिंदु याद रखे कि किसी भी तेज़ संगीत को 12 घंटों तक न सुने, यह आपके कानों को ऊँची आवाज़ वाले संगीत से होने वाले नुकसान को कुछ हद तक ठीक करने में मदद करेगा। सुनने की शक्ति की पुनर्प्राप्ति की अवधि आवाज़ की तीव्रता और उससे संपर्क की अवधि पर निर्भर करती है।

जो लोग कान का बहरापन दूर करने के उपाय अपनाते हैं और उनका सही से पालन करते हैं उनका कान स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

  • अस्थायी थ्रेशहोल्ड शिफ्ट

लगातार तेज़ आवाज़ या संगीत सुनने से कानों को थकान (Auditory Fatigue) होती है। तेज़ आवाज़ के संपर्क में आने के कारण कान की मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं। कानों को नुकसान से बचाने के लिए कानों की मांसपेशियां का कठोर होना हमारे शरीर की प्राकृतिक प्रतिक्रिया है। हम तेज़ आवाज़ के संपर्क में आने के तुरंत बाद सामान्य स्तर की आवाज़ सुनने में कठिनाई का अनुभव करते हैं। यह हमारी सुनने की सीमा या स्तर में परिवर्तन होने के कारण होता है।

इसे अस्थायी थ्रेशहोल्ड शिफ्ट (Temporary Threshold Shift) कहते हैं। यह अवस्था अस्थायी है। कुछ समय के बाद हमारे कान ठीक हो जाते हैं और स्थिति सामान्य हो जाती है। लेकिन यदि ध्वनि बहुत ज्यादा तेज़ हो या उससे संपर्क लंबी अवधि के लिए हो, तो इसका परिणाम स्थायी थ्रेशहोल्ड शिफ्ट (Permanent Threshold Shift) होता है। इससे स्थायी बहरापन होता है।

कान स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि कान पांच महत्वपूर्ण इंद्रियों में से एक है।

हम आसानी से दवाओं पर पैसा खर्च कर देते हैं और हानि को बहाल करने के लिए इंटरनेट पर जानकारी खंगालते रहते हैं। बीमारी को बढ़ने से रोकना इलाज से बेहतर है क्योंकि कई बार समस्या का पता लगने तक देर हो चुकी होती है और शायद स्थिति अपरिवर्तनीय बन जाती है।

आपको बहरेपन के इलाज के बजाय अपनी सुनने की शक्ति कैसे बढ़ाएं पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करना चाहिए। क्यों न छोटी बातों पर ध्यान दिया जाए और बहरेपन को स्थायी होने से रोका जाए। ऊपर बताए गए कान का बहरापन दूर करने के उपाय आपके कानों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और संरक्षित करने में मददगार साबित होंगे।

Leave a Comment