संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के लक्षण, कारण और उपचार

एक बहुत ही प्रबल संभावना है कि हम में से अधिकांश लोग जीवन में कुछ स्तर पर बहरेपन से पीड़ित होंगे। कुछ लोग देर से पीड़ित होते हैं लेकिन हम में से अधिकांश इससे जल्दी प्रभावित हो जाते हैं। बहरेपन के 3 प्रकार हैं लेकिन 90% लोग संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन (Sensorineural Hearing Loss) से पीड़ित होते हैं।

आइए हम इसके लक्षणों, कारणों और उपचार से परिचित हो जाएं ताकि हम इसका सामना करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हों।

इस ब्लॉग को English में पढ़ें।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के लक्षण, कारण और उपचार EarGuru blog feature image

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन क्या है?

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन कान की नसों की कमज़ोरी के कारण होता है, यह वह बहरापन है जो मानव कान के संवेदी और तंत्रिका भागों के ख़राब या कम संवेदनशील होने के कारण होता है। हमारे आंतरिक कान में छोटी बाल कोशिकाएं और श्रवण तंत्रिका या नसे होती है। संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन कान की कमजोर नसों के कारण होता है। यदि नुकसान दोनों कानों में होता है तो इसे बाइलैटरल (द्विपक्षीय) संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के रूप में जाना जाता है।

हमारे कान में ध्वनि कैसे यात्रा करती है?

कोक्लीअ या कर्णावर्त हमारे आंतरिक कान का एक हिस्सा है जो एक कुंडलित ट्यूब के आकार का है और हमारी सुनने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कोक्लीअ में बाल कोशिकाएं ध्वनि तरंगों को विद्युत संकेतों में परिवर्तित करती हैं।

आइए हम बाहरी कान से आंतरिक कान तक ध्वनि कैसे यात्रा करती है, इस बारे में थोड़ा समझें। एनिमेटेड वीडियो बाहरी कान से आंतरिक कान और मस्तिष्क तक ध्वनि की यात्रा को समझने में हमारी सहायता करेगा।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के लक्षण क्या हैं?

हमें संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के सूक्ष्म लक्षणों और संकेतों से अवगत होना चाहिए। शुरुआत में बहरापन बहुत स्पष्ट नहीं होता है। क्योंकि नसों में कमजोरी धीरे-धीरे बढ़ती है, हम बहरेपन को भांप नहीं पाते हैं। समय पर कान के डॉक्टर से कान की नसों का इलाज कराने से बहरेपन को और बढ़ने से रोका जा सकता है।

सेंसेरिन्यूरल बहरापन होने के 9 लक्षण

1. वार्तालाप करने में कठिनाई।

सामान्य रूप से समूह में बातचीत करने में कठिनाई होती है। कुछ शब्दों को न सुनने की या समझने की एक आदत हो जाती है। कान की समस्या समूह-चर्चा में अधिक दिखाई देती है हालांकि जब हम दूसरों से आमने सामने वार्तालाप करते हैं तो बहरापन इतना स्पष्ट नहीं होता है।

2. एक शोर-शराबे से परिपूर्ण पर्यावरण में वक्तव्य समझ में नहीं आ रहा है।

अगर वार्तालाप एक रेस्तरां या खेल स्टेडियम जैसे शोरगुल भरे वातावरण में होता है तो दूसरों को समझना बहुत मुश्किल हो जाता है।

3. दूसरे बड़बड़ा रहे हैं या स्पष्ट रूप से बोल नहीं रहे हैं।

हमें यह महसूस हो रहा है कि दूसरा व्यक्ति बड़बड़ा रहा है और स्पष्ट रूप से बात नहीं कर रहा है। यह इंगित करता है कि हम कुछ आवृत्तियों पर वक्तव्य खो रहे हैं।

4. दूसरों को दोहराने के लिए अनुरोध करना।

हम बार-बार दूसरों से खुद को दोहराने का अनुरोध करते हैं। यह एक संकेतक है कि हम वार्तालाप में शब्दों को खो रहे हैं।

5. टेलीविजन देखते समय वॉल्यूम बढ़ाना।

टेलीविजन या संगीत प्रणाली पर पहले की सेटिंग्स से अधिक वॉल्यूम बढ़ाना। टेलीविज़न या रेडियो को सुनना किसी अन्य व्यक्ति की तुलना में अधिक कठिन है।

6. फोन पर बोलने में कठिनाई।

फोन पर वार्तालाप करना मुश्किल है। फोन की सीमित आवृत्ति सीमा (Frequency Range) कुछ शब्दों को सुनने और समझने में असमर्थता का कारण बनती है।

7. वार्तालाप करते समय बोलने वाले को देखने की जरूरत है।

हमें उस व्यक्ति को देखने की जरूरत है जो वार्तालाप के दौरान बोल रहा है। कान की कमजोर नसों के कारण समझ नहीं आनेवाली बातचीत के कुछ हिस्सों को समझने में हमारी मदद करने के लिए हम अवचेतन रूप से होठों को पढ़ते (Lip reading) हैं।

8. एक लंबी बातचीत के बाद रिक्त हो जाना।

हमारा दिमाग समझ नही आनेवाले शब्दों को भरने और बातचीत की भावना बनाने के लिए कड़ी मेहनत करता है। हम सामान्य बातचीत करने पर अधिक ध्यान देते हैं। यह तनाव को बढ़ाता है और थकावट का परिणाम बनता है।

9. सामाजिक कार्यों से बचना।

एक बार जब हम महसूस करते हैं कि बातचीत करना मुश्किल है, तो हम सामाजिक कार्यों में भाग लेने से बचते हैं। हम समूह व सभाओं से बचते हैं क्योंकि हमें डर है कि हम चर्चा को ना समझकर खुद को शर्मिंदा कर सकते हैं।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के कारण क्या हैं।

हमारे कान में नाजुक बाल कोशिकाएं होती हैं जो ध्वनि कंपन को विद्युत संकेतों में परिवर्तित करती हैं। जब ये बाल कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं या कमजोर हो जाती हैं, तो हम संवेदी या सेंसरिनुरल बहरेपन से पीड़ित होते हैं।

एक और कारण मस्तिष्क को संकेत ले जाने के लिए श्रवण तंत्रिका की अक्षमता या कान की कमजोर नसे हो सकती है। यह वीडियो सेंसेरिन्यूरल बहरेपन को समझने में हमारी सहायता करेगा

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के 7 मुख्य कारण क्या हैं।

1. बढ़ती उम्र या बुढ़ापा।

उम्र बढ़ना मानव शरीर की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। हमारे शरीर के साथ हमारे अंगों के भाग भी बूढ़े हो जाते हैं और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं करते हैं। कान की कमजोर नसों और बाल कोशिकाओं की कुशलता में कमी आती है जिसके परिणामस्वरूप संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन होता है।

2. जोरदार ध्वनि या आवाज़ के निरंतर संपर्क में रहना।

लगातार जोरदार ध्वनि के संपर्क में आने से हमारे कान की बाल कोशिकाओं को स्थायी नुकसान होता है। यह शोर यातायात से हो सकता है, कार्यशाला में काम करने या जोर से संगीत सुनने के कारण हो सकता है।

जोर की आवाज से हमारे कानों की रक्षा के लिए सावधानियाँ बरतें। उपलब्ध कान संरक्षण उपकरणों का उपयोग करें।

3. शारीरिक चोट।

कुछ दुर्घटना के मामलों में, कान की नसों या काक्लीअ के पास कान के हिस्से में भौतिक आघात स्थायी क्षति का कारण बन सकता है। इस नुकसान के परिणामस्वरूप संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन हो सकता है।

4. कान के संक्रमण और रोग।

खसरा, कण्ठमाला (मम्प्स), मेनिएयर रोग (Meniere’s disease) जैसे विषाणु संक्रमण या उच्च बुखार, मधुमेह, उच्च रक्तचाप जैसे रोग भी संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन का कारण बनते हैं।

5. बहरेपन का पारिवारिक इतिहास या जन्मजात बहरापन।

अगर परिवार में संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन की अनुवांशिक (Hereditary) समस्या है, तो बच्चों को होने की संभावना अधिक होती है।

6. कान की विकृति।

जन्म के दौरान आंतरिक कान की विकृति (Ear deformity) या आनुवांशिक विकार (Genetic Disorder) संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन का कारण बनता है।

7. दवाओं के कारण ओटोटोक्सिसिटी (Ototoxicity)

बड़ी खुराक में ली गई कुछ दवाएं काक्लीअ की नाज़ुक बाल कोशिकाओं को प्रभावित करती हैं। सलाह दी जाती है कि आप अपने डॉक्टर से परामर्श लें और खुद से दवा लेने से बचें। आसानी से उपलब्ध एस्पिरिन (Aspirin) जैसी दवाओं को अगर बड़ी मात्रा में लिया जाता है, तो यह कान की नसों को कमजोर कर देता है और संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन का कारण बनता है।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के लिए क्या उपचार उपलब्ध हैं?

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन या कान की कमजोर नसों का इलाज करने के लिए कोई दवा या शल्य चिकित्सा प्रक्रिया नहीं है। इस समस्या को हल करने के लिए समर्पित फार्मा कंपनियां और कुछ स्टार्ट-अप समाधान के बहुत करीब हैं। समाधान प्रदान करने के लिए जीन थेरेपी (Gene Therapy) और स्टेम सेल टेक्नोलॉजी (Stem cell technology) में भी अनुसंधान एक उन्नत चरण में है। वह दिन अब दूर नहीं है जब संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन का उपचार एक गोली खाना जितना सरल होगा।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन पीड़ितों के लिए कुछ उपाय।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरेपन के लिए कान की मशीन या श्रवण यंत्र आम उपाय है। डिजिटल कान की मशीन उपयोगकर्ता की बहरेपन के अनुरूप सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग और समायोजन के योग्य हैं। कान की मशीन की विभिन्न शैलियां उपयोगकर्ताओं की ज़रूरत और जीवनशैली के अनुरूप उपलब्ध हैं।

काक्लीयर इम्प्लांट भी एक विकल्प है। यह विकल्प बहुत आम नहीं है क्योंकि इसमें सर्जरी शामिल है। काक्लीअर इम्प्लांट सर्जरी उन उम्मीदवारों के लिए है जो एक निश्चित चिकित्सा मानदंड को पूरा करते हैं। इम्प्लांट के इलेक्ट्रोड को काक्लीअ में शल्य चिकित्सा से लगाया जाता है। इम्प्लांट के इलेक्ट्रोड विद्युत आवेग प्रदान करते हैं। एक सामान्य कान में, बाल कोशिकाएं विद्युत आवेग प्रदान करती हैं।

संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन सभी श्रवण हानियों में सबसे आम है। हमारे कानों की रक्षा करना बहरापन दूर करने का सही तरीका है। भविष्य में कान समस्याओं से बचने के लिए अच्छी कान स्वास्थ्य आदतों का पालन करें।

2 thoughts on “संवेदी या सेंसेरिन्यूरल बहरापन के लक्षण, कारण और उपचार”

Leave a Comment